सरकार चाहे तो बन सकता है कोटा सम्पूर्ण शिक्षा नगरी: व्यापार महासंघ

0
146

कोटा। कोटा व्यापार महासंघ एवं औद्योगिक संगठनों के एक प्रतिनिधिमण्डल ने भारत सरकार के केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ‘‘निशंक’’ से भेट कर कोटा के विकास की संभावनाओं पर चर्चा की। उन्हें बताया कि सरकार चाहे तो कोटा सम्पूर्ण शिक्षा नगरी बन सकता है।

इस अवसर पर कोटा व्यापार महासंघ के महासचिव अशोक माहेश्वरी ने मानव संसाधन मंत्री को बताया किसी जमाने में कोटा औद्योगिक नगरी के नाम से जाना जाता था और आज शैक्षणिक नगरी के रूप में पूरे देश में अपनी पहचाना कायम कर रहा है।

शैक्षणिक क्षेत्र में विकास के दृष्टिकोण से आने वाले प्रोजेक्टों में कोटा को नई सोगात दिया जाना आवश्यक है। यहां तकनीकी विश्वविद्यालय एवं एमबीए काॅलेज के साथ पर्यटन के क्षेत्र में भी विकास की संभावना है। पिछले दो सालों से पर्यटन के लिये भरपूर प्रयास हो रहे हैं। इन कामों को नगरीय विकास मंत्री शान्ति धारीवाल तेजी से आगे बढ़ा रहे हैं।

केन्द्रीय मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ‘‘निशंक’’ ने प्रतिनिधिमण्डल को आश्वस्त किया कोटा के शैक्षणिक क्षेत्र में जो भी विकास हो सकता है, उसके लिये मैं स्वयं प्रयास करूंगा। यहां हवाई सेवा एवं पर्यटन के विकास के लिये स्थानीय जन प्रतिनिधि कटिबद्ध है। आने वाले दो वर्ष में कोटा का स्वरूप बदलेगा।

प्रतिनिधिमण्डल में कोटा व्यापार महासंघ के अध्यक्ष क्रान्ति जैन, महासचिव अशोक माहेश्वरी, दी एसएसआई एसोसियेशन के संस्थापक अध्यक्ष गोविन्दराम मित्तल, पूर्व अध्यक्ष अनिल मून्दड़ा, हाडौती कोटा स्टोन इण्डस्ट्रीज एसोसियेशन के पूर्व अध्यक्ष देवेन्द्र जैन, लघु उद्योग भारती के प्रदेश सचिव अचल पोद्दार शामिल थे ।