सोने की कीमतें अब 7 हफ्ते के निचले स्तर पर पहुंची

0
52

नई दिल्ली । सोमवार को सोने की कीमतें 7 हफ्ते के निचले स्तर पर आ गईं। सोने की कीमतों में इस कमी की वजह डॉलर में आई गिरावट और 10 साल की अमेरिकी ट्रेजरी यील्ड का बढ़ जाना है। आपको बता दें कि डॉलर के लिहाज से बीती तिमाही का प्रदर्शन बीते सात सालों में सबसे खराब रहा है। हाल ही में खत्म हुए जून महीने को दौरान सोने ने साल का पहला मासिक घाटा दर्ज कराया।

साल 2017 की शुरुआत में सोने में जो तेजी देखने को मिली थी वो दूसरी तिमाही के दौरान कमजोर हुई है। यह गिरावट बॉन्ड यील्ड में तेजी के कारण देखने को मिली। सोमवार के कारोबार में दोपहर 3: 05 बजे (9:35 जीएमटी) स्पॉट गोल्ड 0.5 फीसद की गिरावट के साथ 1,235.26 अमेरिकी डॉलर प्रति औंस से स्तर पर आ गया। वहीं अगस्त डिलीवरी के लिए यूएस गोल्ड फ्यूचर 7.40 अमेरिकी डॉलर बढ़कर 1,234.90 अमेरिकी डॉलर प्रति औंस पर पहुंच गया।

सोना दूसरी तिमाही के दौरान डॉलर की कमजोरी का फायदा उठाने में नाकाम रहा क्योंकि यह संयुक्त राज्य अमेरिका के बाहर मौद्रिक नीति को और सख्त करने की उम्मीदों से काफी हद तक प्रेरित था।अमेरिकी ईगल सोने के सिक्कों की अमेरिकी मिंट की बिक्री जून में टोटल 6,000 औंस की रही जो कि जून 2016 के मुकाबले 92 फीसद की गिरावट है और वर्ष की पहली छमाही के लिए यह टैली को 192,500 के स्तर पर ले आया है।

दिल्ली सर्राफा बाजार में कैसा रहा सोने का हाल: वैश्विक स्तर पर सोने के कमजोर पड़ने से बने दबाव और लोकल ज्वैलर्स के बीच सुस्त डिमांड की वजह से सोमवार को सोने की कीमतों में मामूली सी गिरावट देखने को मिली। सोमवार को दिल्ली बुलियन मार्केट में सोना 10 रुपए फिसलकर 29,400 रुपए प्रति 10 ग्राम पर आ गया, जबकि इंडस्ट्रियल यूनिट्स और क्वाइन मेकर्स के बीच मांग में आई गिरावट की वजह से चांदी 265 रुपए सस्ती हो गई। चांदी की नई कीमत 39,600 रुपए प्रति किलोग्राम हो गई है।