बिना कोचिंग पहली बार में पास की आईएएस एग्जाम

0
127

कोटा। छोटी कक्षाओं से ही बच्चों को ट्यूशन का चलन बढ़ता जा रहा है। इसके पीछे अभिभावकों की सोच रहती है कि उनका बच्चा कोचिंग जाकर ज्यादा इंटेलीजेंट होगा और अन्य बच्चों को पछाड़ देगा। बावजूद इसके कई बच्चे अच्छा प्रदर्शन तक नहीं कर पाते। कोटा की बेटी पूजा पार्थ एेसे अभिभावकों के लिए नजीर है, जिनकी सोच है कोचिंग उनके बच्चे को परफेक्ट बना सकती है।

प्रेमनगर निवासी पूजा ने अपने पहले ही प्रयास में आईएएस जैसे कठिन एग्जाम को क्रेक किया। रणनीति के तहत पढ़ाई करने की वजह से पूजा ने आईएएस एग्जाम में ऑल इंडिया 163वीं रैंक हासिल की। वहीं राजस्थान में ओबीसी श्रेणी में पहला स्थान प्राप्त किया। इस वजह से पूजा को राजस्थान कैडर मिला है। वह फिलहाल भारत सरकार के गृह मंत्रालय में सहायक सचिव के पद पर बतौर ट्रेनी सेवाएं दे रही हैं। पिता शंकरलाल मेडिकल कॉलेज लाइब्रेरी में लाइब्रेरियन एवं मां रजनी गृहणी है।