कैसे बनी नीलू जीवन संगिनी, अरविंद ने खोला दिल का राज

1
419

-दिनेश माहेश्वरी
कोटा। राजस्थानी फिल्मों में जोड़ियां तो कई बनी, किन्तु अरविंद एवं नीलू जैसी जोड़ी शायद ही आज तक बनी हो। नीलू है तो अरविंद और अरविंद है तो नीलू। यह जोड़ी फिल्मों में ही नहीं वास्तविक जिंदगी में भी दोनों की राम मिलाई जोड़ी है।

दादा साहब फाल्के फिल्म फाउंडेशन अवार्ड से सम्मानित अरविंद वाघेला ने यह राज गुरुवार को हमारे यूट्यूब चैनल के लिए दिए विशेष साक्षात्कार में खोला। अरविंद अपनी फिल्म ‘पक्की हीरोगिरी’ के प्रमोशन के लिए कोटा आये थे। अरविंद राजस्थानी फिल्मों के गोविंदा और ‘दीया और बाती हम’ फेम भाभो यानी नीलू राजस्थानी फिल्मों की हेमामालिनी के नाम से प्रसिध्द है। उन्होंने बताया कि दोनों साथ ही स्टेज परफॉर्म करते थे। दोनों ही साथ में फ़िल्में करते थे।

जीवन के हर मोड़ पर दोनों साथ चलरहे थे। अचानक वह दिन भी आ गया जब रील लाइफ के साथ दोनों रियल लाइफ में भी जीवन साथी बन गए। इनकी जोड़ी टीवी शो नाच बलिये में भी विनर रही। इसके अलावा श्रीमान- श्रीमती में भी साथ काम किया। इन्हें बेस्ट जोड़ी का भी अवार्ड मिल चुका है।

अरविंद ने ‘प्रीत न जाने रीत,’ ‘ओ जी रे दीवाना’, ‘हिवड़े से दूर मत जा’ , ‘राजू राठौड़’, ‘राजू बन गया एमएलए ‘ और हाल ही में रिलीज ‘पक्की हीरोगिरी’ जैसी राजस्थानी फिल्मों में काम किया है। उनकी आने वाली फिल्म टाइगर ऑफ़ राजस्थान है। ज्यादा जानकारी के लिए उनका यह वीडियो देखिए और हमारे चैनल को सब्स्क्राइब कीजिये।