एक ऐसी जेल जहां बंदी एफएम पर सुन सकेंगे अपनी पसंद के गीत

0
101

कोटा। केन्द्रीय कारागृह के विचाराधीन एवं सजायाफ्ता कुल 1800 महिला एवं पुरुष बंदी अपनी पसंद के गीत जेल वाणी पर सुन सकेंगे। महानिरीक्षक राजस्थान कारागार रूपिन्दर सिंह द्वारा केन्द्रीय कारागृह कोटा पर बंदियों के लिए चलाए जाने वाले कारागृह के अपने एफ एम जेलवाणी की सराहना कर बंदियों के लिए इसे प्रारंभ किया।

जिला पुलिस अधीक्षक शहर दीपक भार्गव, ग्रामीण पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र दुष्यन्त, एसीबी पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी एवं आईपीएस डॉ. अमृता दुहन भी इस अवसर पर मौजूद रहे।जेलवाणी कारागृह का अपना एफ एम रेडियो चैनल है। इसे राजस्थान में प्रथम बार जिला कारागृह भीलवाड़ा में 30 सितम्बर 2017 को प्रारंभ किया गया था।

जिला कारागृह भीलवाड़ा में जेलवाणी की सफलता तथा सराहना प्राप्त होने के पश्चात इसे केन्द्रीय कारागृह कोटा में प्रारंभ किया गया है। देश की जेलों में बंदियों के लिए चलाए जाने वाले रेडियो चैनलों में केन्द्रीय कारागृह कोटा का एफएम रेडियो चैनल जेलवाणी तीसरे नम्बर पर शुमार हो गया है, जबकि यह राजस्थान का दूसरा कारागृह रेडियो चैनल है।

जेल अधीक्षक सुमन मालीवाल ने बताया कि जेलवाणी का प्रसारण कारागृह में निरुद्ध बंदियों द्वारा विशिष्ट थीम के अनुसार प्रतिदिन दोपहर 12.30 से 2 बजे तक किया जा रहा है।