JEE Main परीक्षा: फिजिक्स व मैथेमेटिक्स में पेपर ज्यादा कैलकुलेटिव रहा

0
352

कोटा। जेईई मेन-अप्रैल परीक्षा बीई व बीटेक के लिए सोमवार से शुरू हो गई। पूरी तरह से कम्प्यूटर बेस्ड (सीबीटी) मोड पर हो रही में एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट द्वारा विद्यार्थियों से एलन के विशेष एप सी-सैट पर पेपर का फीडबैक लिया गया। इसके आधार पर ही यह एनालिसिस तैयार किया गया। विद्यार्थियों के फीडबैक के अनुसार जेईई मेन के पेपर का स्तर जनवरी मेन जैसा ही रहा।

ऐसे में उन विद्यार्थियों की परफाॅर्मेन्स में सुधार की उम्मीद है जो जनवरी के बाद अप्रैल मेन परीक्षा में शामिल हो रहे हैं, क्योंकि वे एक बार पहले परीक्षा दे चुके हैं। अधिकांश बच्चों ने अपने फीडबैक में पेपर का स्तर आसान बताया। कुछ परीक्षा केन्द्रों पर विद्यार्थियों ने कम्प्यूटर स्लो चलने की शिकायत की। विद्यार्थियों की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए समस्या का समाधान किया गया एवं ऐसे विद्यार्थियों को अतिरिक्त समय भी दिया गया।

एनसीईआरटी बेस्ड रहा पेपर
जेईई मेन का पेपर ओवरआल एनसीईआरटी बेस्ड रहा। फिजिक्स में सबसे ज्यादा प्रश्न 12वीं कक्षा के सिलेबस से पूछे गए। मैथेमेटिक्स में कक्षा 11 एवं 12 दोनों के सिलेबस से समान प्रश्न पूछे गए। इसी प्रकार कैमेस्ट्री के पेपर में 12वीं कक्षा के सिलेबस से ज्यादा प्रश्न पूछे गए। सुबह की शिफ्ट में फिजिक्स एवं शाम की शिफ्ट में मैथेमेटिक्स का पेपर ज्यादा कैलकुलेटिव रहे।

कुछ टाॅपिक जो जेईई एडवांस्ड के सिलेबस में नहीं है, उनसे भी प्रश्न पूछे गए। इस तरह के फिजिक्स में 4 से 5, मैथेमेटिक्स में 2 से 3 एवं कैमेस्ट्री में लगभग 3 प्रश्न पूछे गए। कैमेस्ट्री में सबसे ज्यादा प्रश्न फिजिकल कैमेस्ट्री पार्ट से पूछे गए। विद्यार्थी ने बताया कि सुबह की पारी में फिजिक्स में एक प्रश्न अधूरा भी था।