GST चोरी में एक्टर वरुण धवन और तुषार कपूर का भी नाम, जानिए क्या है मामला

0
672

नई दिल्ली।वरुण धवन, तुषार कपूर, आयुष्मान खुराना जैसे फिल्मी एक्टर स्टील सप्लाई, ईंट आदि का भी कारोबार करते हैं। यह जानकारी खुद इन एक्टर्स को न हो लेकिन GST में इन्हीं की फोटो का इस्तेमाल कर बड़े पैमाने पर टैक्स चोरी की गई है। जीएसटी रजिस्ट्रेशन के लिए नाम किसी का और फोटो बालीवुड कलाकारों की लगी हुई मिली हैं।

यूपी में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में नए तरीके का फर्जीवाड़ा सामने आया है। नामी गिरामी फिल्मी कलाकारों के चेहरे की आड़ में कुछ फर्जी कारोबारियों ने सरकार को करोड़ों का चूना लगाया है। जीएसटी टीम की जांच में मामला सामने आया तो अफसर भी हैरान रह गए। देश भर में कारोबार कर रही इन कंपनियों ने अकेले उत्तर प्रदेश में 67 करोड़ रुपये की कर चोरी की है।

फर्जी कंपनियों का 800 करोड़ रुपए टर्नओवर भी बताया
जीएसटी की विशेष टीम ने रिकॉर्ड खंगाले तो पूरे देश में 142 मामले पकड़ में आए। इनमें से 56 उत्तर प्रदेश के हैं। इन फर्जी कंपनियों के खातों का 800 करोड़ रुपये का टर्नओवर है, जिसमें अकेले उत्तर प्रदेश की 380 करोड़ रुपये की हिस्सेदारी है।

यूपी में इन कंपनियों ने इनपुट टैक्स क्रेडिट (आइटीसी) का लाभ लेकर 67 करोड़ रुपये की कर चोरी की है। अभी जांच में कई और मामले सामने आने की आशंका जताई जा रही है। जीएसटी लागू होने के बाद फर्जी पंजीयन के मामले सामने आने लगे तो वाणिज्य कर विभाग के विशेष कार्य बल (एसटीएफ) ने इसकी जांच अपने हाथ में ली।

फिल्मी कलाकारों की फोटो लगा किया फर्जीवाड़ा
जीएसटी टीम ने जब मामलों को गहराई से जांचा तो और भी बहुत से पंजीयन सामने आए जिनमें कॉपी-पेस्ट के माध्यम से किसी और की फोटो लगाकर पंजीयन कराया गया मिला। इस मामले में जांच करते-करते अधिकारियों को कुछ ऐसे फोटो मिले जो फिल्म अभिनेताओं के थे। इसमें सिद्धार्थ मल्होत्रा, तुषार कपूर, वरुण धवन आयुष्मान खुराना जैसे अभिनेताओं की फोटो लगाकर फर्जी पंजीयन कराया गया था।

हालांकि पंजीयन में नाम किसी और का था। फिल्मी सितारों की फोटो लगाकर फर्जी तरीके से पंजीयन कराने के मामले को धोखाधड़ी का अलग तरीका मानते हुए वाणिज्य कर विभाग ने पूरे प्रदेश के अधिकारियों को बुलाकर प्रोजेक्टर के जरिए जानकारी दी। फर्जीवाड़ा करने वालों में ज्यादातर कारोबारी लोहे का व्यापार करने वाले हैं। इन्होंने झारखंड, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल से यूपी में माल मंगाया। इसके बाद यूपी और अन्य राज्यों में माल को बेचना दिखाया गया।

सामने आया बिल्कुल अलग तरह का मामला
एडिशनल कमिश्नर वाणिज्य कर प्रभारी एसटीएफ प्रथम चंद्रभूषण सिंह का कहना है कि यह बिल्कुल अलग तरह का फर्जीवाड़ा है। इसमें फिल्म अभिनेताओं व अन्य लोगों की फोटो को पंजीयन फार्म में लगाकर गोलमाल किया गया। कंपनियों के प्रमुखों की तलाश की जा रही है।