हमारी सरकार में ही उड़ेगा पहला राफेल, पीएम मोदी ने कहा

0
73

अमेठी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के गढ़ अमेठी में आज पहली बार प्रधानमंत्री के रूप में पहली बार पधारने के बाद नरेंद्र मोदी ने 540 करोड़ रुपया की सौगात दी। इसके साथ ही यहां के विकास को पंख भी लगाया है। पीएम नरेंद्र मोदी का केंद्रीय मंत्री स्मृति जुबिन ईरानी ने अमेठी में स्वागत किया।

पीएम नरेंद्र मोदी ने यहां पर 540 करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। इसके बाद उन्होंने माइक संभाला। पीएम मोदी ने लोगों से सबसे पहले तीन बार जय बोलने को कहा। उन्होंने वीर जवानों, विजयी भारत व भारत मां का जयकारा लगवाया। इसके बाद पीएम मोदी ने अमेठी की जनता से कहा जयराम जी की।

पीएम मोदी ने कहा मै अमेठी की भूमि को नमन करता हूं। आज मैं चार साल से शुरू हुई योजनाओं को विस्तार देने आया हूं। यहां पर आज भी बारिश हुई 98 में अटल जी के कार्यक्रम में आया था तब भी बारिश हुई थी। मोदी ने कहा कि बहन स्मृति ने अमेठी के विकास पर पूरा जोर दिया। जिन्होंने हमे वोट दिया वह भी हमारे हैं, जिन्होंने वोट नहीं दिया वह भी हमारे हैं।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सेना ने 2005 में आधुनिक हथियार की अपनी जरूरत बताया था। सेना से तब की सरकार के सामने प्रस्ताव भी रखा था। इसी को देखते हुए अमेठी में इस फैक्ट्री के लिए काम शुरू हुआ।

मोदी ने कहा आपके सांसद राहुल गांधी ने 2007 में जब इसका शिलान्यास किया, तब कहा गया था कि 2010 से इसमें काम शुरू हो जाएगा, लेकिन काम शुरू होना तो दूर, तीन साल में पहले की सरकार तय ही नहीं कर पाई कि अमेठी की ऑर्डिनेंस फैक्ट्री में किस तरह के हथियार बनाए जाएं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह मेरा आप सभी से वादा है कि देश के सैनिकों को हम श्रेïष्ठ से श्रेष्ठ हथियार के साथ आधुनिक संसाधान उपलब्ध कराएंगे। इसके साथ ही हमारी सरकार में ही पहला रॉफेल जहाज भी उड़ेगा। यही लोग वर्षों तक राफेल विमानों के सौदे पर बैठे रहे और जब सरकार जाने की बारी आई तो उसको ठंडे बस्ते में डाल दिया।

हमारी सरकार आई और डेढ़ साल के भीतर सौदे पर मुहर लगाई और कुछ ही महीने में दुश्मन के होश उड़ाने के लिए पहला राफेल विमान भारत के आसमान में होगा। देश को आधुनिक राइफल ही नहीं, आधुनिक बुलेटप्रूफ जैकेट ही नहीं, आधुनिक तोप के लिए भी इन्हीं लोगों ने इंतजार कराया है। यह तो हमारी ही सरकार है जिसने आधुनिक हॉविट्जऱ तोप का सौदा किया और अब तो भारत में ही बनाई जा रही है।

उन्होंने कहा कि सांसद राहुल गांधी ने अमेठी में 2007 में आयुध निर्माणी का शिलान्यास किया था। यहां से 2010 तक निर्माण का वादा किया था, लेकिन वो वादा पूरा नहीं कर सके। इसके बाद भी कहते हैं कि हम झूठ नहीं बोलते। आप सभी बताओ कि उन्होंने झूठ बोल की नही। उन्होंने यहां की फैक्ट्री का उपयोग नहीं किया हमने कर दिखाया और वो सिर्फ यही सोचते रहे कि किस तरह के हथियार बनाये।

उन्होंने कहा कि पहले जो सरकार थी उसने सुरक्षा बलों की सुरक्षा को नजरअंदाज करने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी थी। हमारी सरकार ने पिछले साढ़े चार साल में 2.30 लाख से ज्यादा बुलेटप्रूफ जैकेटों के ऑर्डर दिए। इसके विपरीत कुछ लोग देश में जगह-जगह घूमकर भाषण करते रहते हैं कि मेड इन उज्जैन, मेड इन जैसलमेर, मेड इन बड़ौदा। उनको पता नहीं है कि यह तो मोदी है।

अब एके-203 राइफल के नाम से जानेंगे
अब तो अमेठी में बनने वाली हर राइफल मेड इन अमेठी के नाम से जानी जाएगी। अमेठी को लोग अब एके-203 राइफल के नाम से जानेंगे। हमारी सेना ने वर्ष 2005 में आधुनिक हथियार की अपनी जरूरत को तब की सरकार के सामने रखा था। इसी को देखते हुए अमेठी में इस फैक्ट्री के लिए काम शुरू हुआ। उन्होंने आपके सांसद ने जब 2007 में इसका शिलान्यास किया, तब कहा गया था कि 2010 से इसमें काम शुरू हो जाएगा।

अब अमेठी में एके-47 सीरिज का सबसे नवीन हथियार एके-203 बनेगा। यहां की बनी इन राइफल एके- 203 राइफलों से आतंकियों और नक्सलियों के साथ होने वाली मुठभेड़ों में हमारे सैनिकों को निश्चित रूप से बहुत बढ़त मिलने वाली है। उन्होंने कहा कि इसके लिए मैं भारत के करीबी दोस्त पुतिन का अभार व्यक्त करता हूं।

अब मेड इन अमेठी की एके 203 राइफल से हमारी सेना देश के दुश्मनों व आंतकी का सफाया करेगी। यहां बनने वाली राइफल का भारत निर्यात भी करेगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरवा में यह काम पहले ही शुरू हो जाता, लेकिन सरकारों ने ध्यान नहीं दिया।

इन परियोजनाओं का लोकार्पण

  1. स्टील प्रोसेसिंग यूनिट सेल जगदीशपुर
  2. बस स्टेशन अमेठी के उच्चीकरण एवं डिपो कार्यशाला का पुनर्निर्माण।
  3. अमेठी बस स्टेशन पर विश्राम गृह तथा दुकानों का निर्माण कार्य।
  4. दीन दयाल उपाध्याय राजकीय मॉडल इंटर कॉलेज राघीपुर, धरौली का निर्माण कार्य।
  5. प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दखिनवारा के मुख्य भवन का निर्माण कार्य।
  6. मुख्य चिकित्साधिकारी एवं अधीनस्थ कार्यालय भवन का निर्माण कार्य।
  7. दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण ज्योति योजना के अंतर्गत निर्मित 33/11 केवी बिजली उपकेंद्र शुकुलपुर।
  8. आइपीडीएस योजनांतर्गत निर्मित 33/11 केवी बिजली उपकेंद्र खेरौना।

इन योजनाओं की आधारशिला

  1. आयुध निर्माणी कोरवा में एके 47 सीरीज की नई राइफल बनाने का प्लांट।
  2. 132/33 केवी बिजली उपकेंद्र तिलोई का निर्माण कार्य।
  3. जगदीशपुर में ट्रामा सेंटर का निर्माण।
  4. वृहद गोसंरक्षण केंद्र का निर्माण कार्य।
  5. नाबार्ड वित्त पोषित आरआइडीएफ 24 अंतर्गत अरियावां के पूरे गजराज संपर्क मार्ग का नव निर्माण कार्य।
  6. त्वरित आर्थिक विकास योजनांतर्गत अमेठी में रायबरेली-अयोध्या मार्ग पर ओनडीह से पूरे भूप छीछा तक संपर्क मार्ग का निर्माण।
  7. प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के अंतर्गत सद्भाव मंडप का निर्माण।
  8. चार सौ केवी बिजली उपकेंद्र सिरसिरा रायबरेली का निर्माण कार्य।
  9. केंद्रीय विद्यालय ताला अमेठी के भवन का निर्माण कार्य।