उपभोक्ताओं से विवाद के बाद कोई स्मार्ट मीटर नहीं लगाया : KEDL

0
75

कोटा। कोटा व्यापार महासंघ एवं दी एसएसआई एसोसिएशन के संयुक्त तत्वाधान में KEDL अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक का आयोजन पुरूषार्थ भवन में किया गया। बैठक में कम्पनी के सीईओ मुकेश गर्ग ने बताया कि उपभोक्ताओं से विवाद के बाद कोई स्मार्ट मीटर नहीं लगाया है।

कोटा व्यापार महासंघ के महासचिव अशोक माहेश्वरी ने KEDL के विवाद के बाद हुये समझौते के सभी बिन्दुओं पर विभाग के CEO मुकेश गर्ग से जवाब मांगा। उन्होंने पूछा कि समस्या समाधान शिविर में किस तरह से उपभोक्ताओं को लाभ मिल रहा है। साथ ही आवासीय भूखण्डो पर बने भवनो पर व्यावसायिक दर से शुल्क वसूली बंद हुई या नहीं। माहेश्वरी ने कहा कि अगर इसमें किसी भी प्रकार की कोताही बरती गई या उपभोक्ताओं को परेशान किया तो इसे बर्दास्त नहीं किया जायेगा।

उन्होने महासचिव अशोक माहेश्वरी द्वारा उठाये गये बिन्दुओं पर जवाब देते हुये कहा कि 493 उपभोक्ताओं ने स्मार्ट मीटरो के बारे में शंका जाहिर की थी। प्रार्थना पत्र के माध्यम से स्मार्ट मीटर के समक्ष पुराना मीटर लगाने की मांग की थी। पिछले 4 माह में ऐसे सभी उपभोक्ताओं की मांग पूरी करते हुये विभाग ने उपभोक्ताओं के यहॉं पेरेरल मीटर लगाये, जिनकी लगातार दो माह की रीडिंग ली गई।

CEO मुकेश गर्ग ने कहा कि रीडिंग में कोई परिवर्तन नहीं पाया गया और उपभोक्ताओं ने पूरी तरह से सन्तुष्टी व्यक्त की है। साथ ही विभाग द्वारा हर मंगलवार को उपभोक्ता समस्या समाधान शिविर लगाये जाते हैं, जिसमें विभाग के बड़े अधिकारी बैठकर उपभोक्ताओं की विद्युत सम्बंधी समस्याओं का मौके पर भी ही निदान करते हैं । आवासीय भूखण्डो पर बने भवनो, हॉस्टलो पर आवासीय दर से ही बिजली के बिल जारी किये जा रहे हैं ।

दी एसएसआई एसोसिएशन के संस्थापक अध्यक्ष गोविन्द राम मित्तल ने औद्योगिक क्षेत्र में हाई वोल्टेज आने की समस्या से अवगत कराया। साथ ही उन्होंने कहा कि नेट मीटरिंग होनी चाहिए । लघु उद्योग भारती के अध्यक्ष विपिन सूद एवं प्रान्तीय सचिव राजेन्द्र जैन ने बताया कि विभाग द्वारा विद्युत बिलो का जल्दी भुगतान करने पर रिबेट दी जाती है। जिसकी जानकारी उपभोक्ताओं को नहीं होती है । इन जानकारियों को सार्वजनिक करके उपभोक्ताओं को दी जाये।

एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष प्रेम भाटिया ने बताया कि इलेक्ट्रिक आईटम जलने पर KEDL द्वारा बीमा कम्पनी के माध्यम से क्लेम मिलने की व्यवस्था होनी चाहिए। किरायानामा न होने पर भी विद्युत कनेक्शन दिया जाना चाहिए। बैठक में सीआरएम प्रसन्न जीत, एसी रवि शंकर शुक्ला, सहायक अभियंता पंकज ऐरन, पंकज सक्सैना एवं कनिष्ठ अभियंता रींकू गुप्ता सहित विभाग के कई अधिकारियों ने भाग लिया।