F16 पर पाकिस्तान के झूठ को भारत ने किया बेनकाब, दुनिया को दिखाए सबूत

0
84

नई दिल्ली।पड़ोसी मुल्क द्वारा विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़े जाने की घोषणा के बाद भारत की तीनों सेनाओं ने गुरुवार शाम साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पाकिस्तान के झूठ को दुनिया के सामने रखा। इसके साथ ही तीनों सेनाओं ने स्पष्ट संकेत दिया है कि हमारी लड़ाई आतंकवाद के खिलाफ है और अगर पाकिस्तान आतंकियों को संरक्षण देना आगे भी जारी रखता है तो ऐसे ऐक्शन जारी रहेंगे।

पाकिस्तान का पहला झूठ
पाक यह दावा करता है कि उसने भारत के दो जेट गिराए हैं। भारतीय वायुसेना की तरफ से एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने विस्तार से इस पाकिस्तानी झूठ को उजागर किया। उन्होंने बताया कि 27 फरवरी 2019 को सुबह 10 बजे एयर फोर्स के रेडार पर कई पाक जेट आते दिखे। IAF फाइटर्स मिराज, सुखोई और मिग 21 ने उनका सामना किया। IAF ने उनके अटैक को नाकाम कर दिया।

जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान का एक F 16 लड़ाकू विमान मार गिराया गया, जिसका मलबा पीओके में गिरा। इस दौरान भारत का केवल एक मिग 21 गिर गया और भारतीय पायलट को पाक ने हिरासत में ले लिया। पाक यह झूठ बोल रहा है कि उसका कोई विमान नहीं गिरा है। एयर वाइस मार्शल ने कहा कि हमने पाकिस्तान के दो पायलटों को गिरते हुए देखा था।

पाक के एफ 16 जेट से दागी मिसाइल ऐराम के टुकड़े

सेना पर हमले को लेकर दूसरा झूठ
पाकिस्तान यह दावा कर रहा है कि उसने खुले में बम गिराए हैं जबकि भारतीय वायुसेना ने साफ कहा है कि पाकिस्तानी लड़ाकू विमान के निशाने पर भारतीय सैन्य ठिकाने थे। एयर वाइस मार्शल ने कहा कि पाक जेट ने मिलिट्री प्रतिष्ठान को निशाना बनाया और बम गिराए। हालांकि इससे कोई नुकसान नहीं हुआ।

F16 पर तीसरा बड़ा झूठ
पाक कह रहा है कि उसने हमले की कोशिश के दौरान अपने F16 फाइटर जेट का इस्तेमाल नहीं किया। पाकिस्तान के इस झूठ को बेनकाब करते हुए एयर वाइस मार्शल कपूर ने F16 से दागी गई उस मिसाइल के टुकड़े दिखाए जो भारतीय क्षेत्र राजौरी में मिले हैं। उन्होंने आगे कहा कि पाकिस्तान के पास सिर्फ एक प्लेन है जो ऐमराम मिसाइल लेकर उड़ सकता है।

इसका मतलब है कि पाकिस्तान ने F16 का इस्तेमाल किया। इलेक्ट्रॉनिक सिग्नेचर भी मैच किया गया है। उन्होंने यह भी कहा कि पाक मीडिया में जिस प्लेन का मलबा दिखाया जा रहा है वह दरअसल, मिग 21 का नहीं, एफ 16 का ही है।

IAF ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद F16 जेट द्वारा दागी गई ऐमराम मिसाइल के टुकड़े दिखाए। पाकिस्तान ने इसे भारतीय सैन्य ठिकानों को निशाना बनाकर दागा था, जो नाकाम रहा।

दो दिन में 35 बार सीजफायर उल्लंघन
सेना ने कहा कि आतंकियों के खिलाफ ऐक्शन के बाद पाकिस्तान ने 26 फरवरी को कई इलाकों में संघर्षविराम का उल्लंघन किया। इसके बाद सेना ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया है। 2 दिनों में पाकिस्तान ने 35 बार सीजफायर का उल्लंघन किया है।

सेना की तरफ से मेजर जनरल सुरेंद्र सिंह महल ने कहा कि 27 फरवरी को पाक एयर फोर्स ने मिलिट्री के ब्रिगेड मुख्यालय, बटैलियन मुख्यालय और अन्य ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की थी। हालांकि हमारी फौज तैयार थी और उन्हें नाकाम कर दिया गया। हम देश को बता देना चाहते हैं कि पाकिस्तान की किसी भी हरकत का जवाब देने के लिए सेना तैयार है।

नेवी ने कहा, हरकत हुई तो करारा जवाब मिलेगा
नेवी की तरफ से रियर एडमिरल डीएस गुजराल ने कहा कि नेवी हर तरह से तैयार है और पाकिस्तान समंदर में कोई हरकत करता है तो उसे करारा जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हम आर्मी और एयर फोर्स के साथ एकजुट हैं और देश को पूरी सुरक्षा करेंगे।

सेना ने कहा, नहीं माना पाक तो फिर ऐक्शन
सेना ने साफ कहा है कि हमारी लड़ाई आतंकवाद के खिलाफ है और पाकिस्तान अगर उन्हें (आतंकियों) संरक्षण देता है तो हम कार्रवाई करते रहेंगे। एक सवाल के जवाब में आर्मी ने कहा कि पाकिस्तान ने हमारे सैन्य ठिकाने पर टारगेट कर बात बढ़ाई है।

बालाकोट ऐक्शन पर एक सवाल के जवाब में मेजर जनरल महल ने कहा कि हमारे पास पक्के सबूत हैं कि जैश के आतंकी अड्डों पर बम गिरे हैं। हमने जितनी तबाही चाही थी, उतना कर दिया गया है। हमारे पास सबूत हैं और इसे दिखाने को लेकर सीनियर लीडरशिप को निर्णय करना है।

आपको बता दें कि सेना से मेजर जनरल सुरेंद्र सिंह महल, नेवी से रियर एडमिरल डीएस गुजराल और एयरफोर्स से एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने पाकिस्तान के झूठ को दुनिया के सामने रखा। खास बात यह है कि एयर स्ट्राइक के बाद यह पहली जॉइंट प्रेस कॉन्फ्रेंस थी।

वहीं, प्रधानमंत्री आवास पर गुरुवार शाम में ही सुरक्षा पर कैबिनेट कमिटी (CCS) की अहम बैठक हुई है। इस मीटिंग में रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के अलावा तीनों सेनाओं के प्रमुख भी मौजूद थे।