भगवान की प्राप्ति, भगवान की कृपा से ही संभव : रासेश्वरी देवी

0
125

कोटा। रासेश्वरी देवी ने शुक्रवार को अपने धारावाहिक प्रवचन में कहा कि दुखों से सदा के लिए छुटकारा पाने का एकमात्र उपाय है, भगवान को जानना और भगवान को जानने के लिए भगवान की कृपा आवश्यक है। वह कृपा भी जीव को तब मिलेगी जब वह भगवान रूपी मां को ठीक-ठीक पुकारेगा ।

क्योंकि भगवान की कृपा केवल शरणागत पर ही होती है । भगवत कृपा कोई आकस्मिक घटना नहीं है स्वयं को भगवान के समक्ष संपूर्ण समर्पण करने पर ही भगवत कृपा होगी । उन्होंने कहा कि भगवत कृपा को पाने के लिए किसी भी प्रकार के साधन का बल काम नहीं आता। बल्कि भोले बालक की तरह व्याकुल होकर रोने से ही भगवान रूपी मां पिघल जाते हैं ।

उन्होंने कहा कि भगवान उस भोले भाले शरणागत जीव पर कृपा करके उसे अपना ज्ञान और अपना आनंद प्रदान करते हैं। बड़े से बड़ा दान, तप, व्रत आदि से कुछ मात्रा में मन शुद्ध हो सकता है, परंतु माया निवृत्ति और भगवान की प्राप्ति भगवान की कृपा से ही होती है ।