रद्द ट्रैन अचानक चलने से यात्रा से वंचित यात्रियों का हंगामा

0
574

कोटा। कोटा-श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा ट्रेन को ट्रैक से गुर्जर आंदोलनकारियों के हटने के बाद शनिवार को ट्रेन को अचानक चला दिया। इस वजह से ट्रेन के कई यात्री यात्रा नहीं कर सके।
इसको लेकर यात्रियों ने हंगामा किया। इस ट्रेन के आरक्षित टिकट के यात्रियों का आरोप था कि रेलवे ने ट्रेन रद्द करने का तो मैसेज पहले दे दिया, लेकिन ट्रेन को शनिवार को चलाने का मैसेज नहीं दिया। साथ ही रिफंड नहीं दिया।

कोटा-श्रीमाता वैष्णो देवी कटरा ट्रेन में शनिवार को यात्रा करने के लिए पहले से ही आरक्षित टिकट ले लिए थे। लेकिन, गुर्जर आंदोलन के चलते ट्रेनों का संचालन बंद हो गया था। ऐसे में रेल प्रशासन ने आरक्षित यात्रियों को टिकट कैंसिल किए जाने का मैसेज पूर्व में ही दे दिया, लेकिन रूट खुलने पर ट्रेन को चला दिया।

कई आरक्षित टिकट के यात्री जब शनिवार को टिकट रद्द करवाने रेलवे स्टेशन पहुंचे तो ट्रेन चलने के कारण टिकट का रिफंड नहीं किया गया। ऐसे में रेल यात्रियों ने हंगामा किया। यात्रियों का आरोप था कि जब रेल प्रशासन ने टिकट कैंसिल करने का मैसेज दिया तो चलाए जाने का मैसेज क्यों नहीं किया। इससे यात्री न तो यात्रा कर सके न ही रिफंड मिला।

ट्रेन को चलाए जाने के बारे में स्टेशन पर अनाउंसमेंट भी नहीं किया गया। इससे यात्रियों को 22 कोच की ये ट्रेन काफी खाली गई। आरक्षित टिकट के 50-60 यात्री रिफंड लेने के लिए परेशान होते रहे। हजरत निजामुद्दीन- उदयपुर मेवाड़ एक्सप्रेस को शनिवार को पहले तो रद्द बताया जाता रहा। लेकिन शाम को हजरत निजामुद्दीन से इस ट्रेन को चला दिया गया।

ट्रैक को कोई नुकसान नहीं पहुंचा : आंदोलनकारियों के हटने के बाद रेलवे ने सुरक्षा की दृष्टि से ट्रैक को चैक करवाया गया। ट्रैक को आंदोलनकारियों ने किसी प्रकार का नुकसान नहीं पहुंचाया। फिर भी सुरक्षा को देखते हुए ट्रैक पर टावर वैगन चलाई गई। उसमें इंजीनियरिंग, सिग्नल एंड टेलीकॉम, व टीआरडी के अधिकारी व कर्मचारी तैनात थे।