शहीद हेमराज की पत्नी ने मांग में सिन्दूर भरकर सबको चौका दिया

0
111

कोटा। पुलवामा में शहीद हुए वीर सपूत हेमराज मीना का पार्थिव शहर जब घर पहुंचा तो उनकी पत्नी बाहर आई और वहां मौजूद लोगों को रोने के लिए मनाते हुए भारत माता की जय बोली। पत्नी ने अपने माथे का सिंदूर हटाने की दगह सिंदूर लगाया। इससे पहले शहीद का पार्थिव शरीर दोपहर 2 बजे विनोदकलां पहुंचा।

यहां राजकीय सम्मान के साथ हुए अंतिम संस्कार में मुख्याग्नि शहीद के बड़े बेटे अजय ने दी। अंतिम संस्कार के दौरान देशभक्ति नारे गूंजते रहे। शहीद की पुत्री रीना, टीना और छोटा पुत्र ऋषभी मौजूद रहे। अंतिम संस्कार में हजारों लोग शामिल हुए। सांसद ओम बिरला, जिला कलक्टर मुक्तानंद अग्रवाल सहित संभागभर के जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

जब उनकी पार्थिव देह कोटा पहुंची तो शहीद के घरवालों के साथ पूरा शहर खड़ा नजर आया। हाड़ौती का लाल देश की सेवा में अपने प्राणों की आहुति देकर तिरंगे में लिपटा आया। जवान के पार्थिव शरीर के पहुंचते ही भारत मां के सपूत को अंतिम विदाई देने के लिए जनसैलाब उमड़ पड़ा।

भारत माता की जय और शहीद अमर रहे… के नारे कोटा से विनोदक कलां तक सुनाई देते रहे। पूरे हाड़ौती में एक तरफ गम और गुस्सा था तो वहीं आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब देने की मांग सबने एकजुट होकर उठाई है। लोगों की आंखें आंसुओं से भीग रही थीं तो सीने में बदले की आग धधक रही थी।

निगम देगा 10 लाख की आर्थिक मदद
पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए हेमराज मीणा के परिवार को नगर निगम 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देगा। दादाबाड़ी बैडमिंटन हॉल का नाम भी शहीद हेमराज मीणा बैडमिंटन हॉल रखा जाएगा।

निगम की शनिवार को बोर्ड बैठक शुरू होते ही पार्षद महेश गौतम लल्ली ने प्रस्ताव रखा कि शहीद के परिजनों को निगम की ओर से आर्थिक मदद की घोषणा की जाए और सभी पार्षद एक माह के वेतन भत्ते की राशि शहीद के परिजनों को दें, इस प्रस्ताव को सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया।