नई फसलों की दस्तक से चना, गेहूं और हल्दी में गिरावट

0
85

नई दिल्ली। मार्केट में फसलों की नई खेप आने के साथ ही चना, गेहूं, हल्दी, धनिया और सरसों की कीमतों में कमी आने लगी है। ट्रेडर्स और एनालिस्ट्स के मुताबिक, 2019 की शुरुआत से अभी तक चने की कीमत में करीब 7 पर्सेंट और सरसों की कीमत में करीब 2 पर्सेंट गिरावट आ चुकी है। वहीं गेहूं की कीमत में करीब 10 पर्सेंट की गिरावट हो चुकी है।

इंदौर के एक व्यापारी कैलाश परतानी ने बताया, ‘फसलों की क्वॉलिटी अच्छी है और हमें इस साल भी उत्पादन पिछले साल जितना रहने की उम्मीद है।’ उन्होंने कहा कि आईटीसी, करगिल और ओलम जैसी ट्रेडिंग कंपनियों के मार्च तक मार्केट में आने की उम्मीद है।

एजेंल कमोडिटी में कमोडिटी रिसर्च वर्टिकल के डिप्टी वाइस प्रेसिडेंट अनुज गुप्ता ने बताया कि उन्हें अगले एक महीने तक कीमतों में गिरावट का दौर जारी रहने की उम्मीद है। परतानी के मुताबिक मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और राजस्थान के बाजारों तक चने की नई खेप पहुंचनी शुरू हो गई है और अगले 15 दिनों में इन राज्यों में सप्लाई पीक लेवल पर पहुंच जाएगी।

गुप्ता ने बताया कि इस साल गेंहू की प्रति एकड़ ज्यादा पैदावार की उम्मीद की जा रही है, जिसके चलते इसकी कीमत ₹2,200 रुपये प्रति क्विंटल से घटकर 1,955 रुपये प्रति क्विंटल पर आ गई है। हरियाणा के करनाल में स्थित डायरेक्टरेट ऑफ व्हीट रिसर्च के अधिकारियों को उम्मीद है कि इस साल गेहूं उत्पादन 10 करोड़ टन के लक्ष्य को पार कर जाएगा। महाराष्ट्र, गुजरात और मध्य प्रदेश में गेहूं की कटाई अभी शुरू ही हुई है।

दिल्ली के एक व्यापारी ने बताया, ‘अगले 15-20 दिनों में मार्केट में सप्लाई तेज होने के साथ ही कीमतों में अभी 10 पर्सेंट की गिरावट और आएगी।’ इडलवाइज एग्री वैल्यू चेन की हेड प्रेरणा देसाई ने बताया, ‘अभी तक फसलों की पैदावार अच्छी दिख रही है। पिछले हफ्ते हुई बारिश से भी इन्हें सहायता मिली है।

हालांकि कीमतों पर किसी तरह की टिप्पणी करने से पहले उत्तरी पश्चिमी भारत में अगले कुछ हफ्तों की मौसम की स्थिति को देखना होगा। बारिश रबी फसलों का फायदा पहुंचाएंगी, लेकिन अगर यह ओले के साथ आती है तो इससे फसलों को नुकसान पहुंचेगा और इससे कीमतों पर भी प्रभाव पड़ेगा।’

गुप्ता ने बताया कि मसालों में हल्दी की कीमत ज्यादा उत्पादन के चलते ₹6,822 रुपये प्रति क्विंटल से करीब 7 पर्सेंट गिरकर 6,334 रुपये पर पहुंच गई है। वहीं जीरा की कीमतें करीब 11 पर्सेंट गिरकर ₹15,400 प्रति क्विंटल पर आ गई हैं। धनिया की कीमतें भी 13 पर्सेंट की तेज गिरावट के साथ ₹6,065 रुपये प्रति क्विंटल पर आ गई हैं। गुप्ता ने बताया, ‘अच्छी फसल और मार्केट में सप्लाई बढ़ने के चलते मसालों की कीमतों में गिरावट आई है।’