कोटा संभाग में ओलावृष्टि से फसलों को भारी नुकसान

0
193

कोटा। संभाग में बारिश व ओलावृष्टि से झालावाड़ व बूंदी जिले में फसलों को सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है। झालावाड़ जिले के डग, चौमहला, गंगधार, उन्हैल किसान 90 प्रतिशत से अधिक का नुकसान कर बता रहे हैं। ओलावृष्टि से हुए नुकसान से किसानों के सब्र का बांध भी टूट गया। डग में किसान संघ के नेतृत्व में किसानों ने प्रदर्शन किया।

चौमहला में दो जगह करणपुरा व नयाखेड़ा में किसानों ने अलग-अलग समय पर डग-चौमहला मार्ग पर जाम लगाया। करणपुरा में दो घंटे व नयाखेड़ा में 45 मिनट जाम रहा। अधिकारियों की समझाइश पर किसानों ने जाम हटाया। डग व चौमहला क्षेत्र में अफीम की फसल में भी 60 प्रतिशत तक नुकसान हुआ है। बूंदी जिले में गेहूं, चना, धनिया, सरसों, मेथी, बरसीम, लहसुन की फसल में खराबा हुआ है। उमरच, रायता, गोवर्धनपुरा, राताबरड़ा, गणेशपुरा, जावटी, पाकलपुरिया, नमाना सहित कई गांवों में खराबा हुआ है।

बारां जिले में धनिया में छबड़ा व अटरू में 2-2 फीसदी, छीपाबड़ौद में 3 फीसदी, मांगरोल-सीसवाली में 8 से 10 फीसदी, बारां, शाहाबाद और किशनगंज में 8 फीसदी नुकसान हुआ है। सरसों में अटरू में 2 से 5 फीसदी, सीसवाली-मांगरोल में 5 से 6 फीसदी, बारां, शाहाबाद, किशनगंज में 5 फीसदी नुकसान का अंदेशा है।

चना में सीसवाली-मांगरोल में 2 से 3 फीसदी, गेहूं में बारां, शाहाबाद, किशनगंज में 5 फीसदी नुकसान का आंकलन है। रामगंजमंडी उपखंड के मोड़क स्टेशन, चेचट, सुकेत, सातलखेड़ी में 30 फीसदी तक नुकसान की बात सामने आई है। हालांकि गेहूं में नाम मात्र का नुकसान है, लेकिन धनिया-सरसों में ज्यादा नुकसान हुआ है। सांगोद में धनिया व सरसों में 20 से 25 प्रतिशत नुकसान हुआ है।

कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. रामावतार शर्मा ने बताया कि बुधवार देरशाम ओलावृष्टि और तेज बारिश हुई थी। इससे संभाग में हुए नुकसान की जानकारी के लिए गुरुवार को सभी इलाकों में सुपरवाइजर भेजे गए, जिन्होंने मौके से प्रारंभिक जानकारी दी। सुपरवाइजरों के अनुसार झालावाड़ जिले के गंगधार, पचपहाड़ इलाके में धनिया की फसल में 10 से 30 फीसदी तक नुकसान है। गेहूं की फसल आड़ी पड़ गई।

गेहूं में नुकसान का पता एक सप्ताह बाद चलेगा। वहीं बूंदी के नैनवां इलाके में सरसों, चना व मसूर की फसल में 30 फीसदी तक नुकसान हुआ है। बारां जिले के शाहबाद में सरसों, धनिए में 10 फीसदी तक नुकसान हुआ है। कोटा जिले में कहीं भी नुकसान की जानकारी नहीं है। यहां बारिश से फसलों फायदा ही मिलेगा। हालांकि फाइनल रिपोर्ट के बाद ही पूरी स्थिति स्पष्ट हो पाएगी।

पूर्व सांसद ने लिया फसलों का जायजा
पूर्व सांसद इज्यराज सिंह ने गुरुवार को बूंदी विधानसभा क्षेत्र के सिलोर, करजूना, भीमपुरा, मेहरामपुरा में बेमौसम बरसात, ओलावृष्टि से हुए फसल नुकसान का जायजा लिया। किसानों ने बताया कि बरसात, ओलावृष्टि से खेतों में गेहूं की फसल आड़ी पड़ गई। वहीं खेतों में कटी पड़ी सरसों की फसल में नुकसान हुआ है। इससे किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया। सिंह ने बूंदी कलेक्टर से मोबाइल पर बात कर किसानों से कहा कि नुकसान का सर्वे करवाकर पीड़ित किसानों को राहत दिलाई जाए।