शाही ठाठ बाट से निकली लालन कृष्णास्य कुमार की बिनेकी

0
45

कोटा। पुष्टिमार्ग के प्रथम निधि स्वरूप बड़े मथुराधीश प्रभु के पुष्टि महोत्सव और लालन कृष्णास्य बावा के यज्ञोपवीत संस्कार महोत्सव के छठेे दिन गुरूवार को कृष्णास्य कुमार की बिनेकी शोभायात्रा निकाली गई। जिसमें लालन कृष्णा कुमार को पहले जोधपुर से मंगाई गई विटेंज कार में गढ पैलेस लाया गया और इसके बाद उन्हें हाथी पर सवार करके प्रथमेश नगर छप्पन भोग परिसर ले जाया गया।

शोभायात्रा गढ पैलेस से शुरू होकर दशहरा मैदान होती हुई छप्पन भोग परिसर पहुंची। इस दौा अन्तर्राष्ट्रीय कलाकार हरिहर बाबा की ओर से कच्छी घोड़ी नृत्य की प्रस्तुति भी दी गई। गढ पैलेस पर पूर्व सांसद पूर्व महाराज कुमार इज्येराज सिंह, महाराज मिलन बावा उपस्थित रहे।

शोभायात्रा में गुजरात और महाराष्ट्र से आए कलाकारों ने मराठी बैण्ड पर समां बांध दिया। दो भगवा ध्वज, 75 प्रणव और 30 आणक पर कलाकारों ने पथक और प्रार्थना समेत 21 हाथ रचनाओं का वादन किया। इनके साथ 22 महिला वादक भी साथ दे रही थी। शोभायात्रा में 6 घोड़े सबसे पहले चल रहे थे।

उनके पीछे मधुर स्वरलहरियां बिखेरते हुए बैण्ड और सबसे अन्त में तीन हाथी चल रहे थे। हाथी पर सवार कृष्णास्य बावा के दर्शन करने के लिए भक्त वैष्णजनों की खासी भीड़ लग गई थी। इस दौरान मशक बैण्ड भी आकर्षण का केन्द्र रहा।

साथ में चल रहे गुलदस्ते और गमले विद्युत सज्जा से रोशनी बिखेर रहे थे तो आतिशबाजी की चकाचैंध मंत्रमुग्ध कर रही थी। शोभायात्रा जगह हजगहइ पुष्पवर्षा कर स्वागत किया गया। इस दौरान मथुराधीश प्रभु के जयकारे गूंज उठे थे।