‘मणिकर्णिका’ रिव्यू : द क्वीन ऑफ झांसी

0
183

खूब लड़ी मर्दानी, वो तो झांसी वाली रानी थी’ वाकई सुभद्रा कुमारी चौहान की इन पंक्तियों को कंगना रनौत ने फिल्मी पर्दे पर ही नहीं बल्कि असल जिंदगी में भी सार्थक किया। अनगिनत विवादों के बावजूद कंगना ने फिल्म को पूरा करने के जुनून को वैसे ही निभाया, जैसे ‘मणिकर्णिका’ से झांसी की रानी बनने के बाद लक्ष्मीबाई ने आजादी पाने के जुनून को मंजिल तक पहुंचाया।

अमिताभ बच्चन के वॉइस ओवर के साथ कहानी की शुरुआत होती है। अठारह सौ अट्ठाईस के दशक में मनु उर्फ मणिकर्णिका की हीरोइक एंट्री होती है, जहां वह अपनी अचूक तीरअंदाजी से खूंखार शेर को बेहोश कर देती है। बिठूर में पैदा हुई पेशवा (सुरेश ओबेरॉय) की इस दत्तक पुत्री को शौर्य, साहस और सुंदरता जन्मजात मिली थी, इसलिए राजगुरु (कुलभूषण खरबंदा) की निगाह उस पर पड़ती है और अपनी इन्हीं खूबियों के कारण वह झांसी के राजा गंगाधर राव नावलकर की रानी बनती है।

इतिहास रानी लक्ष्मीबाई द्वारा अंग्रेजों के साथ लड़ी जाने वाली शौर्यगाथा से रंगा पड़ा है। कहानी भी उसी शौर्यगाथा को दर्शाती है, मगर कहानी में गौस बाबा (डैनी डेंगजोंग्पा) की स्वामिभक्ति, झलकरीबाई की बहादुरी और स्वामिभक्ति, तात्या टोपे (अतुल कुलकर्णी) का अदम्य साथ और साहस जैसे दिलचस्प ट्रैक हैं। झांसी की रानी को अंग्रेजों के सामने सिर झुकाना कभी गवारा ही नहीं था।

वह झांसी को वारिस देने पर खुश है कि अब उसके अधिकार को अंग्रेज बुरी नियत से हड़प नहीं पाएंगे, मगर घर का ही भेदी सदाशिव (मोहम्मद जीशान अयूब) षड्यंत्र रचकर पहले लक्ष्मीबाई की गोद उजाड़ता है और फिर अंग्रेजों के जरिए गद्दी छीन लेता है। कहानी पूरी तरह से झांसी की रानी पर ही केंद्रित है।

1857 के राष्ट्रीय आंदोलन को उतनी गहराई से नहीं दर्शाया गया है। अंग्रेजों के हर वार को नाकाम करते हुए लक्ष्मीबाई जब ग्वालियर पहुंचती है, तो तब तक आजादी का बिगुल देशभर में बज चुका है क्लाइमेक्स में अंग्रेज सर ह्यूरोज की सेना के साथ लक्ष्मीबाई का युद्ध और वीरतापूर्ण ढंग से प्राणों की आहुति देनेवाला अंदाज रोंगटे खड़े कर देता है।

निर्देशन की बात करें इसकी जिम्मेदारी राधा कृष्ण, जगरलामुदी के अलावा मुख्य रूप से कंगना ने निभाई है और इसमें कोई शक नहीं कि इस भार को उन्होंने अपने नाजुक कंधों पर बखूबी उठाया है। इंटरवल तक फिल्म धीमी गति से आगे बढ़ती है। अलग-अलग किरदारों को स्टैब्लिश करने की कोशिश में फिल्म खिंच जाती है, मगर सेकंड हाफ में जैसे ही स्वंत्रता संग्राम का बिगुल बजता है, फिल्म का ऐक्शन, टर्न ऐंड ट्विस्ट, रणभूमि की ज्वाला माहौल को रोमांचक बना देती है।

निर्देशक के रूप में कंगना गणतंत्र दिवस के मौके पर देशभक्ति का अलख जगाने में सफल रही हैं। फिल्म में अंग्रेज सरकार और कंपनी के पहलू को सशक्त बनाया जा सकता था। फिल्म में बेहतर स्पेशल इफेक्ट्स का इस्तेमाल होता, तो रोमांच और बढ़ जाता। अब तक ऐतिहासिक फिल्मों को हमने भंसाली और आशुतोष गोवारिकर के नजरिए से देखा है, मगर कंगना के नजरिए में खूबसूरती और बहादुरी दोनों झलकती है।

कई दृश्य और संवाद ताली पीटने पर मजबूर कर देते हैं। मातृभूमि के लिए मर-मिटनेवाले प्रसून जोशी के संवाद जोश भर देते हैं। पर्दे पर कंगना की फायर ब्रैंड परफॉर्मेंस को देखकर लगता है कि मणिकर्णिका ,झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का रोल उन्हीं के लिए बना था। उनके निर्देशन और अभिनय को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे थे, मगर अपने अभूतपूर्व अंदाज से उन्होंने जता दिया कि उस रोल के लिए वे हर तरह से उपयुक्त हैं।

इसे अगर उनके करियर की उत्कृष्ट परफॉर्मेंस कहा जाए, तो गलत नहीं होगा। किशोरी के रूप में वे निहायत खूबसूरत और दिलकश लगी हैं, मगर रणभूमि पर योद्धा के रूप में उन्होंने उसी चपलता के साथ दुश्मनों से लोहा लिया है। कंगना ने किरदार के बॉडी लैंग्वेज, डायलॉग डिलीवरी और ऐक्शन दृश्यों पर कड़ी मेहनत की है।

झलकारीबाई के रूप में अंकिता लोखंडे का मूवी डेब्यू प्रभावशाली रहा है। गौस बाबा के रूप में डैनी डेंगजोंग्पा को एक अर्से बाद पर्दे पर देखना अच्छा लगा। अन्य भूमिकाओं में कुलभूषण खरबंदा, सुरेश ओबेरॉय, रिचर्ड कीप, जिस्सु सेनगुप्ता ने अपनी भूमिकाओं के साथ न्याय किया है। शंकर-अहसान-लॉय के संगीत में प्रसून जोशी के लिखे ‘बोलो कब प्रतिकार करोगे’, ‘विजयी भव’, ‘डंकीला’, ‘भारत’ जैसे गाने फिल्म के विषय के अनुरूप बन पड़े हैं।