KYEA से स्वयं के एप्टीट्यूड का आकलन कर सकेंगे स्टूडेंट्स

0
313

कोटा। नेशनल काउंसिल फॉर एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग ने 9वीं व 10वीं स्टूडेंट्स के लिए नो योअर एप्टीट्यूट टेस्ट तैयार किया है। केवाईए जरिए छात्र अपने रुचि जानकर उसके अनुसार ही विषय का चयन कर सकेंगे। यह टेस्ट अनिवार्य नहीं होकर ऐच्छिक होगा। इस टेस्ट के जरिए विद्यार्थी की रुचि, कार्यक्षमता, दक्षता इत्यादि को पहचाना जा सकेगा।

इस टेस्ट के आधार पर यह निर्णय लेने में मदद मिलेगी की विद्यार्थी के लिए कौन सा विषय सर्वाधिक उपयुक्त होगा। एक्सपर्ट देव शर्मा ने बताया कि सीबीएसई के एकेडमिक डायरेक्टर जोसेफ इम्मानुएल ने इस संबंध में आदेश हाल ही में ऑफिशियल वेबसाइट पर अपलोड किया गया है। इस आदेश के तहत यह स्पष्ट कर दिया गया है कि इस टेस्ट के स्कोर के आधार पर विद्यार्थी व अभिभावकों को विषय चुनने की सिर्फ सलाह दी जा सकती है।

केवाईए का टेस्ट मैन्युअल : 29 जनवरी को केवाईए के संपूर्ण ब्यौरा जारी कर दिया जाएगा। इससे संबंधित टेक्निकल मैन्युअल, टीचर्स मैन्युअल, टेस्ट पेपर्स, आंसर शीट आदि होंगे। सीबीएसई से संबद्ध सभी विद्यालयों द्वारा इस टेस्ट का आयोजन पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार होगा। यह एक कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट होगा। आंसर शीट के जांचने की प्रक्रिया के पश्चात विद्यार्थी द्वारा अर्जित अंकों की संपूर्ण जानकारी ऑफिशियल वेबसाइट पर अपलोड भी करनी होगी।

जेईई मेन व एडवांस्ड के स्टूडेंट्स को भी होगा लाभ : केवाईए टेस्ट के आधार पर कोटा कोचिंग संस्थान भी प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को जेईई मेन तथा जेईई एडवांस्ड में प्रवेश के लिए बेहतर सलाह देने की स्थिति में होंगे। विद्यार्थियों एवं अभिभावकों को यह बेहतर तरीके से समझाया जा सकेगा कि विद्यार्थी के एप्टीट्यूड के आधार पर जेईई मेन व एडवांस्ड उचित होगा या नहीं।