पल्लेदारों की हड़ताल खत्म, आज से भामाशाह मंडी में लौटेगी रौनक

0
326

कोटा। भामाशाह अनाज मंडी में पिछले चार दिन से चल रही हम्मालों की हड़ताल गुरुवार को जिला प्रशासन के दखल के बाद खत्म हो गई। शुक्रवार को मंडी में कारोबार सुचारू रूप से चलेगा। पल्लेदार एसोसिएशन सोमवार से 10 प्रतिशत दर बढ़ाने की मांग को लेकर हड़ताल पर थी। इस कारण मंडी में पिछले 4 दिनों से कारोबार ठप पड़ा था।

दरें बढ़ाने का किसान और व्यापारी वर्ग विरोध कर रहा था। इस कारण कोई सहमति नहीं बन पा रही थी। गुरुवार शाम चार बजे जिला प्रशासन की ओर से जिला परिषद के सीईओ बूजमोहन बैरवा, मडी प्रशासक एसडी मीणा की अध्यक्षता में वार्ता हुई। इसमें हम्मालों, व्यापारियों और किसान प्रतिनिधियों ने अपनी-अपनी बात रखी।

किसान प्रतिनिधि जगदीश शर्मा, दशरथ कुमार का कहना है कि मंडी में दरों के निर्धारण की कोई नीति नहीं है। हम्माल मनमर्जी से दरें बढ़ाने पर अड़े हुए हैं। चडारिया (महिला श्रमिक) 50 किलो की बोरी पर दो रुपए ले रही है।

किसान संगठनों से कमेटी बनाने का सुझाव दिया। कोटा ग्रेन एण्ड सीड्स मर्चेन्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अविनाश राठी ने व्यापारियों और किसानों का पक्ष रखा। इसके बाद 11 सदस्यों की एक कमेटी गठित की गई, जो 10 दिन में दरें बढ़ाने सहित अन्य मसलों पर नीति का मसौदा तैयार किया जाएगा। यह रिपोर्ट मंडी प्रशासक को सौंपी जाएगी।

यह होंगे समिति
कोटा ग्रेन एण्ड सीड्स मर्चेन्ट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष अविनाश राठी, महामंत्री महेन्द्र जैन, पल्लेदार एसोसिएशन के अध्यक्ष जगदीश गुर्जर, मंत्री राजेश चौहान, छह किसान प्रतिनिधि जगदीश शर्मा, अमरलाल, दशरथ कुमार व तीन अन्य किसान प्रतिनिधि तथा मंडी समिति के सचिव समिति में होंगे।