सकारात्मक सोच से ही आगे बढ़ सकते हैं : जेटली

0
40

कोटा। एसोसिएशन ऑफ मैथेमेटिक्स टीचर्स ऑफ इंडिया (एएमटीआई) चैन्नई तथा दिशा डेल्फी पब्लिक स्कूल के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय 53वीं नेशनल मैथ्स कांफ्रेंस का समापन शुक्रवार को हो गया। समापन समारोह में कांफ्रेंस के दौरान हुई विभिन्न स्पर्धाओं में अव्वल रहने वाले प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया।

तीसरे दिन के कार्यक्रमों की शुरूआत स्टूडेंट्स के पेपर प्रजेन्टेशन के साथ हुई। दो सेशन में एक दर्जन से अधिक स्टूडेंट्स ने पेपर प्रजेन्ट किए। इसके बाद ओपन सेशन हुआ, जिसमें कई प्रतिभागियों ने सवाल पूछे और गणित के विशेषज्ञों ने जवाब दिए। दोपहर में समापन समारोह का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डीसीएम श्रीराम रेयन्स के सीनियर वाइस प्रसीडेंट वी.के.जेटली ने कहा कि इस तरह के आयोजन बहुत सीख देते हैं। कांफ्रेंस में मौजूद विद्यार्थियों को डॉ.राजेन्द्र प्रसाद के जीवन की एक घटना बताते हुए उन्होंने कहा कि विद्यार्थी जीवन में आत्मविश्वास होना बहुत जरूरी है।

सामान्यतः हमारे सामने कोई चुनौती आती है और हम सोचने लग जाते हैं कि यह तो नहीं हो सकता, जबकि हमें सोचना चाहिए कि ये कैसे होगा, यदि हम बार-बार इस विचार को दिमाग में रखें और काम करने की सोच रखें तो कोई सवाल अधूरा नहीं रह सकता और कोई काम असंभव नहीं होता।

इसके साथ ही युवाओं को नवाचार की ओर बढ़ना चाहिए। दिमाग खुला रखें, सोच बड़ी रखें। शिक्षण संस्थान ज्ञान दे सकते हैं लेकिन एप्टीट्यूड हमें स्वयं विकसित करना होगा, आत्मविश्वास के साथ ही यह संभव है।

कांफ्रेंस के समापन समारोह के मुख्य वक्ता बंसल क्लासेज के निदेशक वी.के.बंसल ने कहा कि गणित का मेरे जीवन में बड़ा योगदान है। मुझे गणित पढ़ाने से ही सम्मान मिला है। लोग बंसल सर कहने लगे हैं। उन्होंने टीचर्स के लिए कहा कि कभी भी स्टूडेंट्स को यह न कहें कि ‘ये तो आप जानते हैं‘ इससे टीचर का प्रभाव कम होता है।

हर छोटी व बड़ी बात स्टूडेंट्स को बताएं। उन्होंने कहा कि टीचर को हमेशा सही नहीं पढ़ाना चाहिए, इससे स्टूडेंट विषय की अन्य एप्रोच तक नहीं जाता। याद रखें ‘टीचर इज नॉट आलवेज राइट, बॉस इज आलवेज राइट‘।

कांफ्रेंस में एसोसिएशन ऑफ मैथेमेटिक्स टीचर्स ऑफ इंडिया की सचिव आर.शांति ने तीन दिवसीय कांफ्रेंस के दौरान आयोजित की गई गतिविधियों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस दौरान विचारों का आदान-प्रदान हुआ। क्विज कॉन्टेस्ट और अन्य प्रतियोगिताएं भी हुई, विद्यार्थियों ने मैथ्स के मॉडल्स भी प्रदर्शित किए।

डीडीपीएस के सीईओ रवि गर्ग ने कहा कि तीन दिवसीय मैथ्स कांफ्रेंस में वी.के.बंसल के उपस्थित होने के साथ ही गणितज्ञों का कोरम पूरा हो गया। यहां देशभर से गणितज्ञ आए और चर्चाएं हुई। स्कूल परिवार ने हर संभव सहयोग किया।

समारोह के अंत में एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के निदेशक गोविन्द माहेश्वरी ने कहा कि कोटा का नाम इस कांफ्रेंस के साथ ही राष्ट्रीय स्तर पर गणित के क्षेत्र में स्थापित हो गया, एसोसिएशन का धन्यवाद कि उन्होंने कोटा का चयन इस आयोजन के लिए किया। इसके साथ ही एक साधारण आमंत्रण पर देशभर से इस कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे गणितज्ञों ने इस आयोजन को अद्वितीय बना दिया।