‘PUBG’ खेलने वालों पर कार्रवाई करेगी पुलिस, जानिए क्यों

0
75

PUBG (PlayerUnknown’s Battlegrounds) दुनियाभर में मोबाइल पर खेला जानेवाला एक पॉपुलर गेम है। भारत में भी इसके काफी दीवाने हैं। PUBG मार्च 2017 में जारी हुआ था। गेम एक जापानी थ्रिलर फिल्म ‘बैटल रोयाल’ से प्रभावित होकर बनाया गया जिसमें सरकार छात्रों के एक ग्रुप को जबरन मौत से लड़ने भेज देती है।

PUBG में करीब 100 खिलाड़ी किसी टापू पर पैराशूट से छलांग लगाते हैं, हथियार खोजते हैं और एक-दूसरे को तब तक मारते रहते हैं जब तक कि उनमें से केवल एक ना बचा रह जाए। अब एक खबर वायरल हो रही है जिसके मुताबिक भारत में पबजी को बैन का आदेश जारी कोर्ट की ओर से जारी किया गया है।

पहले पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि गुजरात पुलिस ने चेतावनी जारी की है कि सरेआम मोबाइल गेम PUBG खेलते पाए जाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। एक और वायरल पोस्ट का दावा है कि “महाराष्ट्र हाईकोर्ट” ने इस गेम को बैन कर दिया है। पहले महाराष्ट्र हाईकोर्ट के इस कथित नोटिस की बात करें तो। सबसे पहले तो कोर्ट का नाम ही शक में डालता है क्योंकि महाराष्ट्र हाईकोर्ट नाम की कोई चीज है ही नहीं। महाराष्ट्र में हाईकोर्ट का नाम बॉम्बे हाईकोर्ट है।

पोस्ट कहता है, “आपको सूचित किया जाता है कि PUBG कोई ऑपरेशन नहीं करेगा और Tencent Games Corporation को कानूनी नोटिस भेजे गए हैं।” अंग्रेजी में लिखे इस पोस्ट में व्याकरण और स्पेलिंग की कई अशुद्धियां हैं। जैसे इसमें “magistrates” को “majestratives” लिखा गया है। नोट एक “prejudge” के नाम से जारी किया गया है, जबकि भारत में इस नाम का कोई पद नहीं होता।

जिस अधिकारी के श्रीनिवासुलु के नाम से नोटिस जारी किया गया है उस नाम के किसी शख्स के महाराष्ट्र की न्यायिक सेवा में काम करने का कोई सबूत नहीं है और अब गुजरात पुलिस के कथित नोटिस की चर्चा जो गुजराती भाषा में है। इसमें लिखा है, “अगर कोई सार्वजनिक जगहों पर PUBG खेलते पाया गया, तो उस व्यक्ति के ख्लाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी और उसका मोबाइल फोन जब्त कर लिया जाएगा।”