किसानों को नहीं आने दी जाएगी यूरिया की कमी, सीएफसीएल ने दिलाया भरोसा

0
94

कोटा। संभाग में यूरिया की किल्लत को लेकर सप्ताह भर से मच रही मारामारी को देखते हुए गढ़ेपान स्थित यूरिया उत्पादक कम्पनी चम्बल फर्टिलाइजर्स एंड केमिकल लि. ( सीएफसीएल) ने किसानों का भरोसा दिलाया है कि किसानों को यूरिया की दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।

कम्पनी द्वारा हाड़ौती के किसानों के लिए रोजाना 2 हजार मीट्रिक टन यूरिया की सप्लाई की जाएगी। इससे किसी भी किसान को यूरिया की किल्लत नहीं होगी। सीएफसीएल के जनरल मैनेजर विशाल माथुर ने बताया कि सीएफसीएल गढ़ेपान हमेशा से हाड़ौती के किसानों के लिए समय पर यूरिया की सप्लाई के लिए प्रतिबद्ध रही है।

सीएफसीएल का हमेशा से यही प्रयास रहा है कि हाड़ौती के किसानों को यूरिया की कमी नहीं आए। समय-समय पर किसानों को पर्याप्त मात्रा में यूरिया उपलब्ध होता रहे। क्षेत्र के किसानों को यूरिया की कमी का सामना नहीं करना पड़े। इसके लिए कंपनी ने क्षेत्र में सर्वाधिक यूरिया की सप्लाई की है व हमेशा करती रहेगी।

उन्हाेंने बताया कि हाल की में गेहूं की फसल में यूरिया की पहली खुराक के लिए कंपनी ने सप्लाई बढ़ा कर 2 हजार मीट्रिक टन प्रतिदिन कर दी है। कंपनी हाड़ौती के किसानों को यह विश्वास दिलाती है कि यूरिया सप्लाई के माध्यम से कंपनी हमेशा किसानों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ी रहेगी। यूरिया खाद की सप्लाई निरंतर की जाती रहेगी। 

ज्ञातव्य है कि  संभाग में पिछले 4 दिन से सहकारी समिति के पास यूरिया नहीं है। हाड़ौती के किसान कंपनी, कांग्रेस और कटौती के बीच फंसे हुए हैं। दुकानों के सामने कभी नहीं खत्म हाेने वाली लाइनें लगी हुई हैं। संभाग में करीब 10 लाख किसानों को यूरिया की आवश्यकता है और चारों जिलों में यूरिया की किल्लत है।