एचडीएफसी बैंक ने कोटा में ब्लड स्टोरेज इकाई स्थापित की

1
95

कोटा में बैंक द्वारा अपनी तरह की प्रथम पहल
रक्त की कमी वाले भारत के ग्रामीण इलाकों में इस तरह की और सुविधाएं खोलेगा बैंक

कोटा। अपनी तरह की पहली सुविधा के क्रम में एचडीएफसी बैंक ने राजस्थान के कोटा शहर में ब्लड स्टोरेज इकाई की स्थापना की है ताकि रक्त की कमी को दूर करने में मदद मिल सके। यह पहल बैंक के रक्त की कमी वाले देश के ग्रामीण इलाकों में रक्त की कमी को दूर करे के प्रयासों की एक कड़ी है।

कोटा में अब एमबीएस सरकारी अस्पताल (MBS Government Hospital ) के बाहर नई रक्त संग्रहण इकाई होगी। इससे लोगों का जीवन बचाया जा सकेगा और रक्त की व्यवस्था करने में लगने वाले समय को कम किया जा सकेगा।

एचडीएफसी बैंक रक्तदान के क्षेत्र में सक्रिय रहा है और दुनिया का सबसे बड़ा एक दिवसीय रक्तदान अभियान चलाया है। यह बैंक 2007 से रक्तदान अभियान का आयोजन करके देश में रक्त की कमी के बारे में जागरूकता बढ़ा रहा है।

इन पहलों के दौरान, यह देखा गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में उनकी रक्त आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए बड़े रक्त बैंकों तक आवश्यक पहुंच नहीं है। बहुत से रक्त बैंक काफी दूर है नतीजतन रक्त प्राप्त करने में विशेषकर आपात स्थिति में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

इस कमी को दूर करने के लिए बैंक ने देश के अन्य इलाकों में रक्त संग्रहण इकाइयां स्थापित करने में मदद की है। मेडिकल इंफ्रास्ट्रक्चर की कमी वाले क्षेत्रों की पहचान करने के लिए विस्तृत सर्वेक्षण किया गया, तब जानकारी में आया कि कोटा में यह सुविधा नहीं है।

इस पहल के बारे में एचडीएफसी बैंक के हेड ऑपरेशन्स भावेश झवेरी ने कहा ” रक्त हमारे बेशकीमती है, जो हमारे देश में एक गंभीर मांग-आपूर्ति अंतर से पीडि़त है। स्टोरेज यूनिट की स्थापना यह सुनिश्चित करने के लिए एक ओर कदम है कि कोटा में लोगों को आपात स्थिति में रक्त की तुरंत पहुंच हो, और यह सिर्फ शुरुआत है।

हमारे पास देश के ग्रामीण हिस्सों में ऐसी अधिक भंडारण इकाइयों की स्थापना का लक्ष्य है। हम रक्त की कमी के लिए समग्र समाधान स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं यह कमी हमारे देश के गरीबों को प्रभावित करती है। ”रक्त बैंक की तुलना में इस इकाई की सीमित भंडारण क्षमता होगी, लेकिन अप्रत्याशित आपात स्थिति के दौरान कोटा नागरिकों के लिए लाभकारी सिद्ध होगी।