शिक्षा के नए क्षेत्रों में डिग्री हो तो जॉब की अपार संभावनाएं

0
79

-जिंदगी में ओर भी हैं राहें’ थीम पर कोटा में दो दिवसीय शिक्षा महोत्सव शुरू

अरविन्दकोटा। दो दिवसीय ‘शिक्षा महोत्सव-2018’ का भव्य आगाज शनिवार को झालावाड़ रोड स्थित सिनेमाल परिसर में हुआ।  पहले दिन सुबह 9:30 बजे से शाम 5:30 बजे तक महोत्सव में देश के कई प्रमुख शिक्षा संस्थानों के विशेषज्ञों ने 12वीं पास विद्यार्थियों को रुचि व योग्यता के अनुसार अलग-अलग नए कोर्सेस की जानकारियां दी।

युवा मोटिवेटर रविन्द्र साहू ने बताया कि एसआरएम यूनिवर्सिटी, दिल्ली-एनसीआर, वीआईटी, वैल्लोर व भोपाल, क्वांटम यूनिवर्सिटी, रुड़की, खारकीव नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी, यूक्रेन, आरना इंस्टीट्यूट ऑफ मेरीटाइम स्टडी, मुम्बई, ग्राफ़िक इरा यूनिवर्सिटी, देहरादून, शा-शिब ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूट, भोपाल, एलपीयू, जालन्धर, संस्कृति यूनिवर्सिटी, मथुरा, आईआईएलएम व आईटीएस, ग्रेटर नोएडा, मोदी यूनिवर्सिटी सहित प्रमुख शिक्षा संस्थानों के विशेषज्ञों ने जानकारी दी।

आरना इंस्टीट्यूट ऑफ मेरीटाइम स्टडी, मुम्बई के एमडी इम्तियाज शेख ने बताया कि यूके कोलोब्रेशन से देश के कक्षा-12वीं विज्ञान के छात्र मरीन इंजीनियरिंग में दो वर्षीय नेशनल डिप्लोमा कर सकते हैं। इसके प्रथम वर्ष की पढ़ाई गोवा में और दूसरे वर्ष की साउथ टाइन साइट कालेज, यूके में होती है। इसके बाद उन्हें बतौर मरीन इंजीनियर 12 लाख रु. सालाना पैकेज पर जॉब मिल जाते हैं।

इसी तरह, अमृतसर के डॉ. टीपीएस सिंधु ने बताया कि नीट देने वाले मेडिकल विद्यार्थी यूक्रेन की खारकिव नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी से 5 वर्ष 10 माह में एमबीबीएस व इंटर्नशिप करके एमडी फिजिशियन की डिग्री कर सकते हैं। इससे एमबीबीएस करके जर्मनी से निशुल्क पीजी करने का मौका मिल रहा है। भारत से लगभग 1400 से अधिक स्टूडेंट्स प्रतिवर्ष यूक्रेन से एमबीबीएस कर रहे हैं। इसका पूरा कोर्स इंग्लिश में होता है।

डिग्री के साथ पैशन प्रोग्राम भी
क्वांटम यूनिवर्सिटी, रुड़की के असिस्टेंट प्रोफेसर रौनक गुप्ता ने बताया कि 12वीं के बाद स्टूडेंट्स इंजीनियरिंग, मेनेजमेंट, टूरिज्म, रेडियोलॉजी, हॉस्पिटैलिटी, एनिमेशन, ग्राफिक डिजाइन आदि में डिग्री कर सकते हैं। खास बात यह कि वे एक प्रोग्राम के साथ अपनी रुचि के माइनर सब्जेक्ट भी चुन सकते हैं। यूनिवर्सिटी में पैशन प्रोग्राम में सॉफ्ट स्किल के रूप में डांस, सिंगिंग, थिएटर, स्पोर्ट्स, आर्ट, फोटोग्राफी में प्रोफेशनल्स ट्रेनिंग देते हैं। ब्रांच के साथ स्टूडेंट्स की रुचि भी साथ में विकसित की जाती है।

वीआईटी, वैल्लोर,चेन्नई,भोपाल व अमरावती के कोटा इन्फो सेंटर के एग्जीक्यूटिव आदिल नकी ने बताया कि देश के 2.20 लाख स्टूडेंट्स प्रतिवर्ष वीआईटी प्रवेश परीक्षा देते है, जिसमे राजस्थान से 50 हजार से अधिक छात्र शामिल हैं। आईआईटी या एनआईटी में सीट नही मिलने पर वीआईटी को चुनने से उनका एक साल बचता है। यूनिवर्सिटी से इस वर्ष 11 स्टूडेंट्स को 39 लाख रु. के जॉब आफर मिले हैं।

एसआरएम, दिल्ली एनसीआर के नितिन गोस्वामी ने बताया कि कम्प्यूटर साइंस में बिग डेटा एनालिसिस, आर्टिफिशल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, क्लाउड कम्प्यूटिंग जैसे भविष्य के नए फील्ड में स्टूडेंट्स की रुचि बढ़ रही है। दुनिया में टेक्नोलॉजी तेजी से बदल रही है, ऐसे में नए कोर्सेस की जानकारी होना महत्वपूर्ण है।

एसआरएम का दुनिया की 35 से अधिक यूनिवर्सिटी से एमओयू है। हम क्वालिटी मैनपॉवर तैयार कर रहे हैं। इसलिए इस वर्ष स्टूडेंट्स को 5 से 28 लाख रु.तक जॉब आफर मिले हैं। महोत्सव में बॉलीवुड के अभिनेता केसर एन के जानी रविवार सुबह कोटा पहुंचेंगे, वे विद्यार्थियों से रूबरू होंगे। महोत्सव में शाम 5:30 से 7:30 बजे तक विशेष टेक्निकल वीडियो सत्र में विशेषज्ञों ने नये फील्ड व विकल्पों की जानकारियां दी।