GST की वार्षिक रिटर्न 31 मार्च तक नहीं भरी तो देना होगा करदाताओं को जुर्माना

0
142

कोटा।  इंदौर के सीए कीर्ति कुमार जोशी ने कहा कि रजिस्टर्ड करदाता को जीएसटी की वार्षिक विवरणी 31 मार्च 19 तक भरना अति आवश्यक है। रजिस्टर्ड करदाताओं को मासिक रिटर्न के साथ-साथ वार्षिक रिटर्न भी भरनी होगी। अगर अंतिम तिथि तक वार्षिक रिटर्न नहीं भरी तो करदाताओं को जुर्माना देना होगा। 

सीए जोशी शनिवार को  सीए ब्रांच कोटा की ओर से रोटरी बिनानी सभागार में जीएसटी कानून पर आयोजित सेमिनार के प्रथम सत्र में सम्बोधित कर थे। उन्होंने बताया कि जिन करदाताओं का जीएसटी में पंजीयन कारणवश निरस्त हो चुका है, उनको भी वार्षिक रिटर्न हर हाल में भरनी पड़ेगी।

उन्होंने बताया कि वार्षिक रिटर्न नहीं भरने पर करदाता को 200 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से जुर्माना चुकाना होगा, जो टर्नओवर के (.5) प्रतिशत तक जा सकता है। इस रिटर्न में करदाता व अपंजीकृत करदाता से भी विस्तृत रूप से जानकारी मांगी गई है, जिसमें सालभर की बिक्री, सप्लाई का ब्योरा, इनपुट टैक्स क्रेडिट (आईटीसी) के साथ मासिक रिटर्न में की गई गलतियों को वार्षिक रिटर्न में संशोधित किया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि यदि किसी व्यापारी ने कोई माल खरीदा है और उस पर कोई कर चुकाया है, जिसका उसने इनपुट टैक्स क्रेडिट क्लेम किया है, लेकिन सप्लायर ने रिटर्न में आपकी डिटेल नहीं डाली है तो ऐसी परिस्थिति में आपको इनपुट टैक्स क्रेडिट से वंचित रखा जा सकता है।

सेमिनार के द्वितीय सत्र में जयपुर के सीए यश ढड्ढा ने बताया कि वित्तीय वर्ष 2017-18 में जो लोग जीएसटी में रजिस्टर्ड थे, उन्हें अब 31 दिसंबर 2018 तक फॉर्म जीएसटी आर 9 वार्षिक रिटर्न दाखिल करनी होगी।

इसके अलावा सारे करदाता जिनका टर्नओवर 2 करोड़ रुपए से अधिक था, उन्हें भी चार्टर्ड अकाउंटेंट्स या फिर कॉस्ट अकाउंटेंट से जीएसटी ऑडिट करवाकर फॉर्म जीएसटी आर 9 सी भी दाखिल करना जरूरी है।

हालांकि केंद्र सरकार ने यह 31 दिसंबर की डेडलाइन को 31 मार्च 2019 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। सीए ढड्ढा ने इस संबंध में सीए सदस्यों को फॉर्म किस प्रकार से भरना है तथा ऑडिट किस प्रकार से करनी है और इसमें क्या-क्या जटिलताएं है आदि की भी जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि वार्षिक रिटर्न के फॉर्म जीएसटी आर 9, जीएसटी आर 9 सी आदि जीएसटी वेब पोर्टल पर फाइल होने है, लेकिन अभी तक ये फॉर्म विभाग के पोर्टल पर दिखाई नहीं दे रहे है। सेमिनार में कोटा सीए ब्रांच के चेयरमैन सीए कुमार विकास जैन, सचिव सीए नीतू खंडेलवाल व सीपीई चेयरमैन सीए आशीष व्यास ने अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।