ट्रेन-18 का कोटा से सवाईमाधोपुर के बीच 150 की स्पीड से हुआ ट्रायल

0
117

कोटा। मेक इन इंडिया के तहत बनाई गई ट्रेन -18 को शुक्रवार को कोटा से सवाईमाधोपुर के बीच के लगभग 50 किमी के रूट पर 150 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से चलाकर देखा गया। शेष रूट पर ट्रेन 110 व 130 किमी की स्पीड से ही चली। ट्रेन को शनिवार को भी चलाया जाएगा।

ट्रेन को स्पीड से चलाने के लिए सतर्कता बरती जा रही है। कोटा रेल मंडल में भी तक दिल्ली से मुंबई के बीच चलने वाली राजधानी व अगस्त क्रांति राजधानी को 130 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चलाया जाता है।

ट्रेन-18 को शुक्रवार को कोटा से सवाईमाधोपुर के लिए सुबह लगभग 9.30 बजे चलाया गया। शुरुआत में तो ट्रेन को 110 से 130 किमी प्रतिकिलोमीटर की स्पीड से चलाया गया। रास्ते में लगभग 50 किमी के क्षेत्र में ट्रेन की स्पीड बढ़ाकर 150 किमी प्रतिघंटे भी की गई।

सीनियर डीसीएम विजय प्रकाश ने बताया कि ट्रेन के साथ आरडीएसओ का छह सदस्यों का दल था। टीम के सदस्यों द्वारा रूट के ट्रैक की स्थिति की रिकॉर्डिंग की। इसमें यह देखा गया कि किस क्षेत्र में ट्रैक में प्वाइंट की स्थिति कैसी है? क्रॉसिंग गेट पर किस तरह की सतर्कता बरती जा रही है। किस सेक्शन में किस स्पीड से ट्रेन दौड़ी ? ट्रेन को अब तेज गति से चलाकर देखा जाएगा।

स्टेनलैस स्टील के बने हैं कोच
ट्रेन के कोच स्टेनलैस स्टील के बने हैं। ट्रेन में एग्जीक्यूटिव व नॉन एग्जीक्यूटिव कोच लगे होंगे। एग्जीक्यूटिव कोच में 56 व नॉन एग्जीक्यूटिव कोच में 78 यात्रियों के बैठने की व्यवस्था होगी। कोच में वाईफाई की सुविधा यात्रियों को मिलेगी। प्रत्येक सीट पर मोबाइल चार्जिंग प्वाइंट होंगे।

प्रत्येक कोच में दो जीपीएस स्क्रीन से यात्रियों को अगले स्टेशन के आगमन का समय व गति के बारे में सूचना प्राप्त होगी। यात्रियों को सामान रखने के लिए उच्च गुणवत्ता वाले रैक लगे हैं। सीट को 180 डिग्री तक घुमाया जा सकता है, सीट पर लगे कपड़े धूल व आग प्रतिरोधी हैं।कोच में एलईडी लाइटें लगाई गई हैं, उन्हें कम व तेज किया जा सकता है।

सतर्कता बरतने के निर्देश
ट्रेन-18 को चलाए जाने पर पीडब्ल्यूआई को सतर्कता बरतने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही ट्रैक तक व पास में मवेशी नहीं पहुंचे। इसका पूरा ध्यान रखने के लिए रेलकर्मियों को कहा गया है। ट्रेन को पास किए जाने से पहले ही रेलकर्मी ट्रैक के आसपास लगाए जा रहे हैं। गेटमैन को भी सतर्कता बरतने को कहा गया है।