रेलवे ग्रुप डी परीक्षा: साले को पास कराने के चक्कर में जीजा हवालात में

0
60

कोटा। साले को रेलवे ग्रुप डी की भर्ती परीक्षा में पास कराने के लिए जीजा ने ऐसा दांव चला कि साले का कॅरियर चौपट हो गया और जेल के सीखचों के पीछे पहुंचा दिया। हुआ दरअसल यूँ कि
साले राजेश की जगह परीक्षा देने के लिए मनकेश को करीब 1 लाख रुपए में तैयार किया गया ।लेकिन परीक्षा केंद्र पर साले की जगह परीक्षा देने वाला पकड़ा गया। बाद में पुलिस ने उसे पकड़ा तो जीजा साले समेत सभी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

अनंतपुरा सीआई नरेन्द्र पारीक ने बताया कि शिव ज्योति इंटरनेशनल स्कूल, रानपुर में रेलवे की भर्ती परीक्षा ग्रुप-डी आयोजित की जा रही थी। जहां फर्जी अभ्यर्थी मनकेश मीणा (23) पुत्र पृथ्वीराज निवासी बामनवास, सवाईमाधोपुर असली राजेश मीणा (23) बच्चू मीणा निवासी खड़खड़ी , करौली की जगह परीक्षा दे रहा था।

उसके आईकार्ड में साइड फोटो लगा हुआ था। उसकी जांच की तो वह फर्जी पाया गया। सूचना पर पुलिस ने उसे मौके से गिरफ्तार कर लिया। मनकेश ने पूछताछ में बताया कि राजेश व उसके रिश्तेदार भी कोटा ही हैं और बाहर कार में बैठे हैं।

इसके बाद पुलिस ने कार (आरजे-34-टीए-1290) में बैठे राजेश, उसके जीजा संजीव (25) पुत्र गुलाब मीणा निवासी दीवानपुरा, करौली और एक अन्य अमर सिंह (22) पुत्र परसराम मीणा निवासी पटपड़ी, करौली को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस चारों से पूछताछ कर रही है।

जीजा ने की थी फर्जी अभ्यर्थी की व्यवस्था : पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि अभ्यर्थी राकेश के जीजा संजीव ने उसके लिए फर्जी अभ्यर्थी की व्यवस्था की थी। संजीव ने अपने एक दोस्त के जरिए मनकेश को इस काम के लिए तैयार किया था।

राजेश की जगह परीक्षा देने के लिए मनकेश को करीब 1 लाख रुपए में तैयार किया गया था। हालांकि, अभी इस संबंध में पुलिस पूछताछ जारी है। पुलिस ने परीक्षा वेन्यू प्रभारी टीसीएस कंपनी के रविकांत की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज किया है।