अप्रैल-अक्टूबर के दौरान 29,088 करोड़ की अप्रत्यक्ष कर चोरी उजागर

0
69

नयी दिल्ली। वित्त मंत्रालय की जांच इकाई ने चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-अक्टूबर अवधि के दौरान कुल 29,088 करोड़ रुपये की अप्रत्यक्ष कर चोरी के 1,835 मामलों की पहचान की है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को इसकी जानकारी दी। जीएसटी सतर्कता महानिदेशालय (डीजीजीआई) द्वारा पकड़े गये इन मामलों में 571 मामले माल एवं सेवा कर (जीएसटी) में चोरी के हैं।

इनमें कुल 4,562 करोड़ रुपये की कर चोरी की गयी। सर्वाधिक मामले सेवा कर से जुड़े रहे। सेवा कर में चोरी के 1,145 मामले पकड़े गये जो सम्मिलित तौर पर 22,973 करोड़ रुपये के हैं। इसी दौरान केंद्रीय उत्पाद शुल्क के 119 मामलों में 1553 करोड़ रुपये की चोरी पकड़ी गयी।

अधिकारी ने ‘‘डीजीजीआई के अधिकारियों ने अप्रैल से अक्टूबर की अवधि के दौरान 29,088 करोड़ रुपये की कर चोरी के मामलों को पकड़ा।’’ उसने कहा कि इस दौरान ऐसे ममलों में 5,427 करोड़ रुपये के कर की उगाही की गयी।

इनमें कर चोरी के ऐसे पुराने मामले भी शामिल हैं जो पहले के है लेकिन वे चालू वित्त वर्ष के दौरान उजागर हुए। कुल उगाही में जीएसटी के 3,124 करोड़ रुपये, सेवा कर के 2,174 करोड़ रुपये और केंद्रीय उत्पाद शुल्क के 128 करोड़ रुपये शामिल रहे।