फ्लिपकार्ट से बिन्नी बंसल के इस्तीफे के बाद कृष्णमूर्ति संभालेंगे कमान

0
169

बेंगलुरु।फ्लिपकार्ट समूह के सीईओ बिन्नी बंसल (37) के इस्तीफे के बाद अब कल्याण कृष्णमूर्ति कंपनी के सीईओ का पद संभालेंगे। अमेरिकी रिटेल कंपनी और फ्लिपकार्ट की नई पैतृक कंपनी वॉलमार्ट ने कहा कि अब इसमें मिंत्रा और जबांग को भी शामिल कर दिया गया है। मिंत्रा और जबांग के सीईओ अनंत नारायणन पद पर बने रहेंगे, लेकिन वह कृष्णमूर्ति को रिपोर्ट करेंगे। वहीं, समीर निगम फोनपे के सीईओ बने रहेंगे। कल्याण और समीर दोनों बोर्ड को रिपोर्ट करेंगे।

फ्लिपकार्ट के ग्रुप सीईओ और चेयरमैन बिन्नी बंसल (37) ने इस्तीफा दे दिया है। फ्लिपकार्ट में 77% की हिस्सेदारी रखने वाले वॉलमार्ट ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। पहले कहा गया था कि बिन्नी पर गलत व्यवहार करने के आरोप हैं। हालांकि, बाद में न्यूज एजेंसी रॉयटर्स ने सूत्रों के हवाले से दावा किया कि बिन्नी के खिलाफ एक महिला ने यौन दुव्यर्वहार का आरोप लगाया था।

इसकी एक ग्लोबल लीगल फर्म से जांच कराई गई। आरोपों की पुष्टि नहीं हुई, लेकिन बिन्नी के आचरण में पारदर्शिता का अभाव सामने आया। इसीलिए उनका इस्तीफा तुरंत प्रभाव से मंजूर कर लिया गया।

आरोपों से बिन्नी का इनकार
रॉयटर्स के मुताबिक, इसी साल जुलाई के आखिर में फ्लिपकार्ट को बिन्नी के खिलाफ एक शिकायत मिली। यह शिकायत यौन दुव्यर्वहार की थी। शिकायत करने वाली महिला कुछ साल पहले तक फ्लिपकार्ट से जुड़ी हुई थी। अब यह महिला अपना अलग वेंचर चलाती है।

कंपनी की तरफ से जारी बयान के मुताबिक, बिन्नी के खिलाफ मिली शिकायत को सही साबित करते सबूत तो नहीं मिले लेकिन बिन्नी के फैसलों में खामियां मिलीं। खासकर एक विशेष परिस्थिति में लिए गए उनके फैसलों में पारदर्शिता की कमी नजर आई।

बिन्नी ने आरोपों को गलत बताया है। उनका कहना है कि वे कुछ और समय फ्लिपकार्ट की जिम्मेदारी संभालना चाहते थे। लेकिन, पिछले दिनों में हुई कुछ घटनाओं ने उन्हें इस्तीफा देने के लिए मजबूर कर दिया।

बिन्नी ने कहा कि खुद पर लगे आरोपों से वे हैरान हैं। उनके और परिवार के लिए यह चुनौती भरा वक्त है। अब वे शेयरधारक और बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के तौर पर फ्लिपकार्ट से जुड़े रहेंगे।
बिन्नी के इस्तीफे के बाद अब कल्याण कृष्णमूर्ति सीईओ का पद संभालेंगे। अनंत नारायणन मिंत्रा और जबोंग के सीईओ का काम देखेंगे। वे कल्याण कृष्णमूर्ति को रिपोर्ट करेंगे।

सितंबर से सक्रिय भूमिका में नहीं थे बिन्नी
वॉलमार्ट के मुताबिक, बंसल ने उनके खिलाफ जांच जारी रहने के दौरान ही इस्तीफे का फैसला लिया। इससे पहले सितंबर में खबरें आई थीं कि बिन्नी बंसल कंपनी के रोजाना के कामकाज में सक्रिय भूमिका नहीं निभा रहे। इसलिए ग्रुप सीईओ बदलने की जरूरत महसूस हो रही है।

मई में वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट में हिस्सेदारी खरीदी थी,
अमेरिकी रिटेल कंपनी वॉलमार्ट ने मई में फ्लिपकार्ट की 77% हिस्सेदारी 1.07 लाख करोड़ रुपए (16 अरब डॉलर) में खरीदी थी। यह ई-कॉमर्स में दुनिया की सबसे बड़ी डील थी। अगस्त में सीसीआई की मंजूरी के बाद सौदा पूरा हो गया।

बिन्नी ने अमेजन में नौकरी करते हुए फ्लिपकार्ट की प्लानिंग की थी
बिन्नी साल 2006 में अमेजन में सीनियर सॉफ्टवेयर इंजीनियर थे। वहां सचिन बंसल के साथ काम करते हुए बिन्नी ने फ्लिपकार्ट की प्लानिंग की और 2007 में इसे लॉन्च कर दिया। वॉलमार्ट से डील के वक्त सचिन बंसल फ्लिपकार्ट में अपने 5.55% शेयर बेचकर कंपनी से बाहर हो गए थे। जबकि, बिन्नी चेयरमैन और सीईओ की भूमिका में आ गए थे। उनके पास फ्लिपकार्ट के 5% शेयर हैं।