घनश्याम तिवाड़ी ने भरा सबसे पहले नामांकन, बोले- अब एक-एक मिनट भारी

0
95

जयपुर।भाजपा छोड़ खुद की भारत वाहिनी पार्टी बना चुके घनश्याम तिवाड़ी ने सोमवार सुबह 1.35 बजे सांगानेर क्षेत्र से चुनाव के लिए नामांकन भरा। वे सुबह पहले हनुमान मंदिर पहुंचे। जहां पुरे रीति रिवाज के साथ पूजा अर्चना की गई। इस दौरान उनकी पत्नी और बेटा अखिलेश भी साथ मौजूद रहे। तिवाड़ी ने शुभ मुहुर्त के लिए करीब 13 मिनट तक इंतेजार किया। जिसके बाद 1.22 मिनट पर ही कमरे में दाखिल हुए। इस दौरान तिवाड़ी ने कहा की अब एक एक मिनट भारी है।

शुभ मुहुर्त के लिए करीब 13 मिनट किया इंतेजार
बता दें कि मंदिर दर्शन करने के बाद तिवाड़ी सीधे कलेक्ट्रेट के कमरा नंबर 50 में पहुंचे। इस दौरान बड़ी घनश्याम तिवाड़ी के सपोर्टर बड़ी संख्या में उनके साथ दिखे। घनश्याम तिवाड़ी ने शुभ मुहुर्त के लिए करीब 13 मिनट तक इंतेजार किया। जिसके बाद 1.22 मिनट पर ही कमरे में दाखिल हुए।

घनश्याम तिवाड़ी का अब तक का सफर
घनश्याम तिवाड़ी बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में रहे हैं। वे पार्टी में कई अहम पदों पर काम किया है। राजस्थान की 7वीं, 8वीं, 10वीं, 12वीं, 13वीं, 14वीं विधानसभा के सदस्य रहे हैं। तिवाड़ी 1980 में पहली बार सीकर से विधायक बने।

इसके बाद 1985 से 1989 तक पुन: विधानसभा क्षेत्र सीकर से विधायक रहे। 1993 से 1998 तक विधानसभा क्षेत्र चौमूं से विधायक बने। फिलहाल 2003 से वर्तमान में विधानसभा क्षेत्र सांगानेर से विधायक है। वह जुलाई 1998 से नवम्बर 1998 तक भैरोंसिंह शेखावत सरकार में ऊर्जा मंत्री भी रह चुके हैं।

दिसम्बर, 2003 से 2007 तक वसुंधरा राजे सरकार में प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च माध्यमिक शिक्षा, संस्कृत शिक्षा, विधि एवं न्याय, संसदीय मामले, भाषाई अल्पसंख्यक, पुस्तकालय एवं भाषा मंत्री रहे। दिसम्बर 2007 से वर्ष 2008 तक खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और विधि एवं न्याय मंत्री के पद पर रहे।

वह जुलाई 1998 से नवम्बर 1998 तक भैरोंसिंह शेखावत सरकार में ऊर्जा मंत्री भी रह चुके हैं।
दिसम्बर, 2003 से 2007 तक वसुंधरा राजे सरकार में प्राथमिक, माध्यमिक, उच्च माध्यमिक शिक्षा, संस्कृत शिक्षा, विधि एवं न्याय, संसदीय मामले, भाषाई अल्पसंख्यक, पुस्तकालय एवं भाषा मंत्री रहे। दिसम्बर 2007 से वर्ष 2008 तक खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति और विधि एवं न्याय मंत्री के पद पर रहे।

पिछले पांच साल में इन पदों पर रहे तिवाड़ी
सदस्य, व्यापार सलाहकार समिति (2014-2015)
सदस्य, अनुमान पर समिति “ए” (2014-2015)
अध्यक्ष, पुस्तकालय समिति (2015-2016)
सदस्य, सामान्य प्रयोजन समिति (2016-2017)
अध्यक्ष, याचिका समिति (2017-2018)