धनतेरस के दिन सेंसेक्स 61 अंक गिरा, निफ्टी 10,524 पर बंद

0
23

नई दिल्ली। सोमवार को धनतेरस के दिन रुपए में गिरावट और एशियाई बाजारों में कमजोरी से शेयर बाजार गिरकर बंद हुआ। ऑटो, फार्मा और एफएमसीजी में बिकवाली से कारोबार के अंत में सेंसेक्स 61 अंक टूटकर 34,951 के स्तर पर बंद हुआ। वहीं निफ्टी 29 अंक गिरकर 10,524 के स्तर पर बंद हुआ। दिग्गज शेयरों में HDFC, ICICI बैंक, इंडसइंड बैंक, आईटीसी, TCS, LT और NTPC में गिरावट रही। BSE पर 1000 से ज्यादा गिरे।

मिडकैप-स्मॉलकैप शेयर गिरे
लार्जकैप के साथ मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी बिकवाली रही। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 0.47 फीसदी गिरकर 14,819.23 के स्तर पर बंद हुआ जबकि निफ्टी मिडकैप 100 इंडेक्स में 0.47 फीसदी की गिरावट रही। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 0.28 फीसदी की कमजोरी के साथ बंद हुआ।

किन शेयरों में तेजी, किनमें गिरावट
SBIN, एक्सिस बैंक, विप्रो, RIL, मारुति, HDFC बैंक, एचयूएल, सन फार्मा, इंफोसिस में बढ़त रही। हालांकि इंडसइंड बैंक, एनटीपीसी, पावरग्रिड, ओएनजीसी, HDFC, ICICI बैंक, TCS, आईटीसी, कोटक बैंक, एशियन पेंट्स, टाटा मोटर्स गिरे।

FPI द्वारा निकासी 2 साल के हाई पर
विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने अक्टूबर महीने में कैपिटल मार्टे से 38,900 करोड़ रुपए की निकासी की है। किसी महीने में की गई ये दो साल की सबसे बड़ी निकासी है। कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें, रुपए में गिरावट और चालू खाता घाटे की खराब स्थिति इसकी वजह रही।

इसी के साथ 2018 में अब तक विदेश निवेशकों ने प्रतिभूति बाजार (शेयर व डेट) से कुल 1 लाख करोड़ रुपए से अधिक निकाले। इस दौरान, शेयर बाजार से 42,500 करोड़ रुपए और डेट मार्केट से 58,800 करोड़ रुपए की निकासी हुई।

टॉप 10 में से 8 कंपनियों का मार्केट कैप 1.69 लाख करोड़ बढ़ा
सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों में से 8 का मार्केट कैप पिछले सप्ताह कुल मिलाकर 1.69 लाख करोड़ रुपए बढ़ा। इस दौरान टाटा कंसल्टैंसी सर्विसेज (TCS) और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) को सबसे ज्यादा लाभ हुआ है।

शेयर बाजार में तेजी से ICICI बैंक, HDFC और रिलायंस इंडस्ट्रीज समेत 8 बड़ी कंपनियों का मार्केट कैप 1,69,865.11 करोड़ रुपए बढ़ा। सेंसेक्स पिछले सप्ताह 1,662.34 अंक बढ़कर 35,011.65 अंक पर बंद हुआ था।

सिप्ला का मुनाफा 10.8 फीसदी घटा
वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में सिप्ला का मुनाफा 10.8 फीसदी घटकर 377 करोड़ रुपए हो गया। वित्त वर्ष 2019 की दूसरी तिमाही में सिप्ला की आय 1.7 फीसदी घटकर 4,012 करोड़ रुपए रही। सालाना आधार पर दूसरी तिमाही में सिप्ला का एबिटडा 804 करोड़ रुपए से घटकर 702 करोड़ रुपए रहा। सालाना आधार पर दूसरी तिमाही में सिप्ला का एबिटडा मार्जिन 19.7 फीसदी से घटकर 17.5 फीसदी रहा।