विधायक राजावत के दुर्व्यवहार से खफा कर्मचारी-अधिकारी छुट्‌टी पर

0
76

कोटा। भामाशाहमंडी के खरीद केंद्र पर बुधवार को विधायक भवानीसिंह राजावत द्वारा सहकारी विभाग तथा भामाशाहमंडी के खरीद केंद्र पर बुधवार को विधायक भवानीसिंह राजावत द्वारा सहकारी विभाग तथा राजफेड के अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ की गई गाली-गलौच एवं दुर्व्यवहार के खिलाफ अधिकारियों व कर्मचारियों में रोष व्याप्त है। विरोध में कांटे बंद कर अधिकारी और कर्मचारी अवकाश पर चले गए हैं। अब सोमवार को काम पर लौटेंगे।

राजस्थान राज्य सहकारी विभाग एसोसिएशन की जिला शाखा के नेतृत्व में सहकारी विभाग, खरीद केंद्र तथा राजफेड के अधिकारियों, कर्मचारियों ने कलेक्टर को ज्ञापन देकर विधायक राजावत के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की मांग की। साथ ही खरीद केंद्र पर सुरक्षा की व्यवस्था करने के लिए कहा है।

उन्होंने कहा कि किसानों के सामने सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए खराब किस्म को चार हजार एवं तीन हजार रुपए प्रति क्विंटल में खरीदने करने के लिए दबाव बनाया, जो आचार संहिता का उल्लंघन है। इसलिए उनके खिलाफ आचार संहिता के उल्लंघन व कानून को हाथ में लेने के खिलाफ प्रकरण राज्य सरकार को भिजवाएं। खरीद केंद्र पर सुरक्षा भी दी जाए।

ज्ञापन देने वालों में राजफेड के क्षेत्रीय अधिकारी नरेश शुक्ला, प्रभारी अधिकारी तेजसिंह निर्वाण, मैनेजर सहकारी समिति राजेश मीणा व सहकारी समिति के डिप्टी रजिस्ट्रार अजय सिंह पंवार, पिंकी बैरवा, ललित मीणा, रेणु यादव, ऋतु सपरा, गजेंद्र सिंह राजावत आदि शामिल थे।

मुख्य सचिव को भेजी रिपोर्ट, सोमवार को काम पर लौटेंगे कर्मचारी : घटनाक्रम के बाद राजफेड, सहकारिता विभाग, मार्केटिंग सोसायटी के अधिकारियों-कर्मचारियों की आपात बैठक मार्केटिंग सोसायटी में हुई। इसमें विधायक के खिलाफ रोष प्रकट किया गया तथा मामले की रिपोर्ट मुख्य सचिव, रजिस्ट्रार सहकारी विभाग, एमडी राजफेड को भेजते हुए अवकाश पर जाने का निर्णय लिया गया।

बैठक में हाड़ौती के सभी जिलों अधिकारियों और कर्मचारियों से समर्थन देते हुए अवकाश पर जाने का निर्णय लिया। कर्मचारी अब सोमवार तक काम पर लौटेंगे। इससे पहले गुरुवार, शुक्रवार व शनिवार को कांटे बंद रहेंगे।

मेरा परिवार आहत है : सहकारिता विभाग के उप रजिस्ट्रार अजय सिंह पंवार ने कहा कि भामाशाह मंडी में जो हुआ है, वह बेहद शर्मनाक है। एक विधायक का गंदी गालियां देना और भद्दे शब्दों का उपयोग करना गलत है। ये निश्चित रूप से राज कार्य में बाधा है।

इससे उनका परिवार बहुत आहत है। उनकी पत्नी ने उनसे कहा कि जहां सम्मान नहीं वहां नौकरी करने का कोई मतलब नहीं है। वह इस संबंध में विधिक राय ले रहे हैं। विधिक राय जैसे ही प्राप्त होगी। निश्चित रूप से उसके अनुसार आगे कार्रवाई करेंगे।

राजावत के समर्थन में सड़क पर उतरे किसान
कोटा में विधायक भवानी सिंह राजावत के बयान का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा हैं। एक तरफ जिन राजफैड के अधिकारियों पर विधायक राजावत ने बयान दिया था उनके समर्थन में सभी कर्मचारी कामबंद कर बैठे हैं, तो दूसरी तरफ राजावत के समर्थन में किसान उतरे हैं सड़क पर।

समर्थन में आये किसानो ने कहा हैं की राजावत किसानो के मसीहा हैं। किसानो के हक़ की लड़ाई राजावत लड़ रहे हैं। अधिकारी चोरी कर सीनाजोरी कर रहे हैं। किसानों ने कलेक्ट्री पर विरोध प्रदर्शन कर राजफेड के अधिकारियो के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने और किसानो की उपज समर्थन मुख्य पर तुलवाने की मांग की।