देश का पहला बिटकॉइन एटीएम खोलने वाला कारोबारी गिरफ्तार

0
808

नई दिल्ली। देश में पहला बिटकॉइन एटीएम खोलने वाले व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तारी के वक्त पुलिस ने उनके पास से दो लैपटॉप, एक मोबाइल, क्रिप्टोकरेंसी के लिए डिवाइस और 1.79 लाख रुपये कैश जब्त किया है। कर्नाटक के तुमाकुरु के रहने वाले हरीश बीवी पर आरबीआई के कानून के उल्लंघन का आरोप है।

बता दें कि RBI के नियमों के मुताबिक भारत में बिटकॉइन ट्रेडिंग अवैध है। हरीश बेंगलुरु के पुराने एयरपोर्ट रोड स्थित एक मॉल में एटीएम किऑस्क का संचालन कर रहे थे। बताया जा रहा है कि हरिश यूनोकॉइन टेक्नॉलजीज के को-फाउंडर भी है।

पुलिस ने हरीश को गिरफ्तार कर फर्स्ट एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया था, जहां से कोर्ट ने उन्हें आगे की पूछताछ के लिए सात दिनों तक पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है। पुलिस ने लोगों से अपील की है कि लोग क्रिप्टोकरेंसी के झांसे में न आएं।

मालूम हो कि वित्त मंत्रालय ने फरवरी में देश में बिटकॉइन को बैन कर दिया था। वित्त मंत्रालय ने बैंकों और वित्तीय संस्थाओं को बिटकॉइन से दूर रहने को कहा था। उधर, यूजर्स की समस्या का हल निकालने के लिए क्रिप्टोकरंसी एक्सचेंज यूनोकॉइन ने बेंगलुरु में एटीएम किऑस्क की स्थापना की थी।

पुलिस की कार्रवाई पर कंपनी के फाउंडर और सीईओ सात्विक विश्वनाथ का कहना है कि भारतीय ग्राहकों की ओर से इसके जरिए खरीद और बिक्री पूरी तरह से वैध है। अपने बचाव में उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री अरुण जेटली ने क्रिप्टोकरंसी को अवैध नहीं बताया बल्कि ये कहा कि यह लीगल टेंडर नहीं है।