टैक्स जमा करने में डॉक्टर और सीए पीछे, आयकर विभाग ने जारी किया डेटा

0
124

नई दिल्ली। आप जानकर हैरान होंगे कि पिछली बार देश में लगभग 8.6 लाख डॉक्टरों में आधे में से भी कम ने इनकम टैक्स का भुगतान किया। यही नहीं, बात की जाए चार्टर्ड अकाउंटेंट की, जो लोगों को निजी रूप से हो या फिर कंपनियों के टैक्स मामलों में सलाह देते हैं, उनमें भी तीन में से सिर्फ एक ही इनकम टैक्स जमा करता है। यानी टैक्स जमा करने में सीए सबसे पीछे हैं। 

प्रत्येक किलोमीटर में आपको नर्सिंग होम तो आसानी से मिल जाएंगे, जिनमें से सिर्फ 13 हजार ने टैक्स जमा किया। असल में इनकी संख्या फैशन डिजाइनरों से तो कम ही है। दरअसल, चौदह हजार पांच सौ फैशन डिजाइनर इनकम टैक्स जमा कर रहे हैं। बता दें कि यह पूरा डेटा सोमवार को आयकर विभाग की ओर से जारी किया गया है, जिसमें वेतनभोगियों और गैर वेतनभोगियों के बीच का एक बड़ा अंतर दिखाया गया है।

पिछले चार सालों के दौरान फाइल किए गए आईटीआर रिटर्न्स में 80 प्रतिशत से ज्यादा की वृद्धि दर्ज की गई है और यह 2013-14 के 3.79 करोड़ से बढ़कर 2017-18 में 6.85 करोड़ हो गया है। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट का दावा है कि व्यक्तिगत करोड़पतियों में 68 फीसदी का इजाफा हुआ है।

सालाना 5.2 लाख रुपये पर गैर-वेतनभोगी की औसत वार्षिक आय वेतनभोगी करदाताओं का लगभग 75 फीसदी है, जो 6.8 लाख रुपये तक बढ़ जाती है। गैर वेतनभोगियों की तुलना में वेतनभोगी करदाताओं की संख्या तेजी से बढ़ रही है। हालांकि, हैरान करने वाली बात यह है कि दोनों की गिनती 2.3 करोड़ ही है।

वेतनभोगी और गैर-वेतनभोगी श्रेणी के करदाताओं की औसत आय भी बढ़ी है। सीबीडीटी द्वारा कहा गया है कि वेतनभोगी करदाताओं द्वारा घोषित औसत आय का आंकड़ा 19 प्रतिशत बढ़कर 5.76 लाख रुपये से 6.84 लाख रुपये हो गया।

इस अवधि में गैर वेतनभोगी करदाताओं की औसत आय 27 प्रतिशत बढ़कर 4.11 लाख रुपये से 5.23 लाख रुपये हो गई। सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्स (सीबीडीटी) के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने कहा, ‘हम तमाम माध्यमों से प्राप्त डेटा देख रहे हैं। हम लगातार प्राप्त आंकड़ों का विश्लेषण कर रहे हैं।’

सीबीडीटी ने बयान में कहा कि कॉर्पोरेट करदाताओं की बात की जाए, तो 2014-15 में इस श्रेणी के करदाताओं ने जहां औसतन 32.28 रुपये का कर चुकाया था, वहीं आकलन वर्ष 2017-18 में यह 55 प्रतिशत बढ़कर 49.95 लाख रुपये हो गया।

ईमानदार करदाताओं का सम्मान
सीबीडीटी ने कहा कि इस अवधि में व्यक्तिगत करदाताओं द्वारा किए गए औसत कर भुगतान का आंकड़ा 26 प्रतिशत बढ़कर 46,377 रुपये से 58,576 रुपये हो गया। सीबीडीटी के चेयरमैन सुशील चंद्रा ने कहा कि विभाग यह सुनिश्चित करेगा कि ईमानदार करदाताओं का सम्मान और उनकी हमेशा मदद की जाए। वहीं कर चोरी करने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी और अभियोजन कार्रवाई की जाएगी।