एमपी एवं गुजरात में धनिये की बोवनी घटने की आशंका

1
431

इंदौर। मध्यप्रदेश और गुजरात में धनिये की बोवनी 20 से 30 फीसदी कम रहने का अनुमान लगाया जा रहा है। पिछले वर्ष उत्पादन अधिक रहने से कीमतें पूरे वर्ष निचले स्तर पर बनी रहीं। धनिये की बोवनी घटने की मूल वजह कीमतों में कमी है।

साथ ही गुजरात का कई हिस्सों में पानी की कमी बताई जा रही है। इससे भी बोवनी घटी है। गुजरात के कच्छ और सौराष्ट्र क्षेत्रों में 25 फीसदी तक बुवाई कम बताई जा रही है। जबकि एमपी में यह कमी 30 फीसदी तक है। मध्यप्रदेश में बुवाई कम रहने की मुख्य वजह भाव निचले स्तर पर रहना है।

ट्रेड वॉर का फायदा सोयाबीन उत्पादकों को : अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर जारी रहने का फायदा सोयाबीन उत्पादकों को फायदा होगा।यह बैठत गोदरेज इंटरनेशनल के डायरेक्टर दोराब मिस्त्री मुंबई में आयोजित ग्लोब आयल कन्वेन्शन के दौरान एक बातचीत में कही।

उनके अनुसार अमेरिका से चीन की सोयाबीन खरीदी घटने का अमरीका को अच्छा खासा नुकसान उठाना पड़ेगा। इस स्थिति में चीन की खरीदी भारत समेत जिन देशों से बनती है, उन्हें इसका बढ़ा लाभ मिलेगा। 

इसकी मुख्य वजह अमरीका अमरीका की फसल का आकर बड़ा होना और ुतिनि ही मात्रा में चीन की खरीदी होना है। ऐसे में अर्जेंटीना और ब्राजील को सोयाबीन की कीमत बेहतर मिलेगी। वहीँ भारत जैसे देश को सोया खली के दाम अच्छे मिलेंगे।

पाम तेल के स्टॉक पर उन्होंने कहा कि इसका बायोडीजल में इस्तेमाल इंडोनेशिया और मलेशिया की परेशानी को कम करेगा। क्रूड आयल में चल रही तेजी से खाद्य तेल का बायोडीजल में कम इस्तेमाल होने की सम्भावना दर्शाई है।