कोचिंग के दम पर जेईई मेन्स एग्जाम क्वालिफाई करने में राजस्थान तीसरे नंबर पर

0
65

कोटा। मेडिकल व इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी के लिए होने वाली पढ़ाई का हब बन चुके कोटा के दम पर राजस्थान आगे बढ़ रहा है। जेईई मेन्स एग्जाम क्वालिफाई करने वाले छात्रों में राजस्थान देश का तीसरे प्रदेश बनकर उभरा है। इन परीक्षाओं की तैयारी के लिए बड़े केन्द्र माने जाने वाले दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना व तमिलनाडु को राजस्थान ने पीछे छोड़ दिया है।

सीबीएसई ने 27 अप्रेल को आयोजित जेईई मेन परीक्षा में सफल हुए छात्रों के राज्यवार आंकड़े जारी किए हैं। जिनके मुताबिक जेईई मेन्स में सफलता का परचम लहराने वालों में उत्तरप्रदेश के विद्यार्थियों की संख्या सबसे ज्यादा है। यूपी के 26,002 विद्यार्थी इस बार जेईई मेन्स क्वालिफाई करने में सफल रहे।

 दूसरे स्थान पर महाराष्ट्र (22,897 विद्यार्थी) और तीसरे स्थान पर राजस्थान (20, 438 सफल विद्यार्थी) रहा। हालांकि इस सफलता में लड़के-लड़कियों का अनुपात बेहद खराब रहा। सीबीएसई की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक राजस्थान के 17,688 लड़के और 2750 लड़कियों ने जेईई मेन्स क्वालिफाई किया है।

हर पांचवा विद्यार्थी कोटा कोचिंग से

जेईई मेन्स में कोटा कोचिंग का जलवा साफ झलक रहा है। सीबीएसई की ओर से सफल घोषित किए गए 2.20 लाख विद्यार्थियों में से 39 हजार से ज्यादा छात्र कोटा कोचिंग्स के छात्र हैं। यानि हर पांचवा विद्यार्थी कोटा कोचिंग से जुड़ा है।