डॉलर के मुकाबले रुपया और नहीं गिरेगा, जानिए विशेषज्ञ की राय

0
93

कोलकाता। रुपया अपनी सही कीमत के करीब पहुंच रहा है और अब इसके आगे गिरने की ज्यादा संभावना नहीं है। हालांकि यह नीतिगत हस्तक्षेप का सही वक्त है, ताकि नकारात्मक भावनाओं को रोका जा सके । विशेषज्ञों ने शनिवार को यह बात कही।

यस बैंक की समूह अध्यक्ष और मुख्य अर्थशास्त्री सुभदा राव ने कहा, “उचित मूल्य संगणना के मुताबिक, रुपया वर्तमान में अपनी सही कीमत के करीब पहुंच रहा है। यहां से आगे इसके गिरने की संभावना कम है। ” रुपया शुक्रवार को 34 पैसे के सुधार के साथ 71.85 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ।

इसके पिछले दिन रुपया ग्रीनबैक पर 72.19 रुपये प्रति डॉलर के स्तर पर बंद हुआ था. उन्होंने हालांकि कहा कि नीतिगत हस्तक्षेप की जरूरत है, ताकि ‘नकारात्मक भावनाओं’ को रोका जा सके। ‘ अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के भारत, नेपाल, भूटान के वरिष्ठ रेसिडेंट प्रतिनिधि एंडरेस डब्ल्यू बूअर ने कहा कि आकलन के मुताबिक, “रुपए की विनिमय दर इसकी वास्तविक क्षमता के समकक्ष ही है। “

बैंक द्वारा किए गए अध्ययन का हवाला देते हुए राव ने कहा कि रियल इफेक्टिव एक्सचेंज दर के आधार पर भारतीय रुपए का मूल्य वास्तविक स्तर पर ही है, जहां इसे होना चाहिए था। 

रुपए के गिरने से इन्हें होगा फायदा
रुपए के मुकाबले डॉलर के मजबूत होने का सबसे ज्यादा फायदा आईटी, फॉर्मा के साथ ऑटोमोबाइल सेक्टर को होगा। इन सेक्टर से जुड़ी कंपनियों की ज्यादा कमाई एक्सपोर्ट बेस है। ऐसे में डॉलर की मजबूती से टीसीएस, इंफोसिस, विप्रो जैसी आईटी कंपनियों के साथ यूएस मार्केट में कारोबार करने वाली फार्मा कंपनियों को होगा।

इसके अलावा ओएनजीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, ऑयल इंडिया लिमिटेड जैसे गैस प्रोड्यूसर्स को डॉलर में तेजी का फायदा मिलेगा क्योंकि ये कंपनियां डॉलर में फ्यूल बेचती हैं।  

अमेरिका के GDP के आंकड़े पर होगी नजर
रुपए की चाल के लिए अमेरिका के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) नंबर पर भी नजर रहेगी।  उम्मीद की जा रही है कि ग्रोथ 4.1 फीसदी के मुकाबले 4 फीसदी रह सकती है। उम्मीद से बेहतर ग्रोथ आने पर आगे भी डॉलर के मजबूती मिलने के आसार हैं।