अब जेईई मेन्स और NEET की परीक्षा साल में दो बार होगी

0
51

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को घोषणा की कि अब नैशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ही एनईईटी, जेईई और नेट के एंट्रेंस एग्जाम कराएगी। ये सभी एग्जाम अब तक सीबीएसई द्वारा कराए जाते थे। अब जेईई मेन्स और NEET की परीक्षा साल में दो बार कराई जाएगी। यह घोषणा नए शैक्षिक सत्र से लागू होगी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बात करते हुए जावड़ेकर ने बताया नैशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट (नेट) दिसंबर में होगा, जेईई मेन्स के एग्जाम जनवरी और अप्रैल में होंगे और एनईईटी का आयोजन फरवरी और मई में होगा। उन्होंने बताया कि स्टूडेंट एनईईटी के लिए दो बार अपीयर हो सकते हैं और सबसे ज्यादा नंबर पाने वाले को ऐडमिशन के लिए चुना जाएगा। जेईई (मेन्स) के लिए भी कैंडिडेट्स दो बार अपीयर हो सकते हैं।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ये सभी एग्जाम कम्प्यूटर बेस्ड होते हैं और स्टूडेंट घर पर इनकी तैयारी कर सकते ही हैं या अथॉराइज्ड कम्प्यूटर सेंटर पर मुफ्त में इसका लाभा उठा सकते हैं। ऐसे सेंटरों की जानकारी जल्द ही सार्वजनिक की जाएगी।जावड़ेकर ने कहा कि स्लेबस, क्वेश्चन फॉर्मेट, भाषा और फीस में कोई बदलाव नहीं होगा। हर एग्जाम 4 से 5 दिनों में किया जाएगा।

उन्होंने भरोसा दिलाया कि कम्प्यूटर बेस्ड होने के बाद एग्जाम में नकल का कोई मौका नहीं होगा। जब उनसे पूछा गया कि एसएससी भी कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट है, लेकिन उसमें भी चीटिंग स्कैंडल सामने आ चुके हैं तो जावड़ेकर ने कहा कि एनटीए मॉड्यूल में स्क्रीन शेयरिंग की सुविधा नहीं होती है।