पूरे मन और योग से करें हर कार्य, कोचिंग के छात्रों को स्वामी रामदेव की सीख

0
72

विद्यार्थियों को 1 करोड़ 64 लाख के पुरस्कार एवं स्कॉलरशिप

कोटा। देश की सबसे प्रतिष्ठित मेडिकल प्रवेश परीक्षा एम्स एवं सबसे बड़ी मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट-2018 में सफल रहे विद्यार्थियों के सम्मान में एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट का विक्ट्री सेलीब्रेशन बुधवार को लैंडमार्क कुन्हाड़ी स्थित एलन सम्यक कैम्पस के सद्गुण सभागार में हुआ। दोनों परीक्षाओं में सफल रहे विद्यार्थियों को 1 करोड़ 64 लाख 20 हजार के पुरस्कार व छात्रवृत्तियों प्रदान की गई।

समारोह में मुख्य अतिथि योग ऋषि स्वामी रामदेव ने श्रेष्ठ विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया और उन्हें जीवन की राह दिखाई। उन्होंने कहा कि वर्तमान में जिएं और अपने हर कार्य को पूरे मनोयोग से करें। इसमें पूरा मन हो और योग हो। आप सोचें तो वैज्ञानिक की तरह सोचें, खेले तो खिलाड़ी बन जाएं और पढ़े तो विद्यार्थी बन जाएं। हर कार्य को डूबकर संकल्प के साथ करें तो सफलता कहीं नहीं जा सकती। इस अवसर पर स्वामी रामदेव को अभिनन्दन पत्र भेंट किया। 

पतंजलि व एलन एक जैसे
स्वामी रामदेव ने कहा कि कोटा और एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट से गहरा नाता हो गया है। भाई राजेश माहेश्वरी ने दो विद्यार्थियों से 30 साल पहले इस संस्था की नींव रखी और मैंने भी दो शिष्यों से योग सिखाना शुरू किया। यहां माता का आशीर्वाद है, भाइयों का साथ है और गुरूजनों की कृपा है। यही कारण है कि एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट आज ब्राण्ड बन गया है। 

भावी डॉक्टर्स को समझाया साइंस के साथ योग
स्वामी रामदेव ने कहा कि दो वर्ष कोटा में रहकर सबकुछ भूलकर पढ़ाई की, सफलता पाई। अब आगे के जीवन में भी अच्छी आदतों के साथ जिएं। व्यसनों से मुक्त रहें, किसी भी तरह का नशे की शुरूआत ही नहीं होने दें, बुरी आदत को स्वयं पर हावी नहीं होने दें।

सच बोलें, झूठ से बचें। सफलता का मंत्र देते हुए उन्होंने कहा कि योग अनुभव है जो आपको ध्यान की ओर ले जाता है। पढ़ाई करने के लिए एकाग्रता सबसे जरूरी है, एकाग्रता के मन का शांत होना जरूरी है और इसके लिए योग जरूरी है। कुछ समय योग को जरूर दें। इससे न केवल शारीरिक रूप से स्वस्थ रहेंगे वरन मानसिक रूप से भी आप शांत रहेंगे। उन्होंने विद्यार्थियों, अभिभावकों और शिक्षकों को ओम का उच्चारण करवाया तथा अनुलोम-विलोम भी करवाया।

विशाखा जादौन का सम्मान
कार्यक्रम में निर्धन व ग्रामीण परिवारों की ऐसी प्रतिभाएं जो विषम परिस्थितियों से निकलकर चयनित हुए, उन्हें भी गुदड़ी के लाल स्कॉलरशिप के तहत पुरस्कृत किया गया। इसमें छात्रा विशाखा जादौन को स्वामी रामदेव ने पुरस्कृत किया। इस छात्रा को आगामी चार वर्ष तक पढ़ाई के लिए प्रतिमाह स्कॉलरशिप दी जाएगी।

विशाखा ने नीट में 573 अंक प्राप्त किए हैं तथा आल इंडिया 3974 रैंक प्राप्त की है। सामान्य वर्ग में रैंक 2690 है। विशाखा के पिता हिम्मत सिंह वेल्डर का प्राइवेट जॉब करते हैं, जिनके पास भी पिछले तीन साल से नियमित काम नहीं है। माता भंवर कंवर गृहिणी हैं। दादा जी नृसिंह लाल आरएपीपी में ड्राइवर थे, उन्हीं की पेंशन से परिवार चल रहा है। विशाखा की स्थिति को देखते हुए एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट ने फीस में रियायत देकर हौसला बढ़ाया। वहीं बाबा रामदेव ने भी विशाखा को मदद देने का आह्वान किया।

महक को मिले 11 लाख
विक्ट्री फंक्शन में एम्स व नीट में श्रेष्ठ स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों चेक, मेडल व उपहार देकर पुरस्कृत किया गया। समारोह में 132 विद्यार्थियों को 1 करोड़ 13 लाख 80 हजार रूपए के पुरस्कार वितरित किए गए। एम्स में अखिल भारतीय स्तर पर तीसरा तथा नीट में 31वां स्थान प्राप्त करने वाली क्लासरूम कोचिंग की छात्रा महक को 11 लाख रूपए, मेडल एवं उपहार देकर पुरस्कृत किया गया।

इसी के साथ एम्स में पांचवे स्थान पर रहने वाले अमिताभ पंकज चौहान, छठे स्थान पर रहने वाले अब्दुर रहमान, सातवें स्थान पर रहने वाले संगीत राठी, आठवें स्थान पर रहने वाले अमूल्य गुप्ता एवं नवें स्थान पर रहने वाले सोमल अग्रवाल को 5-5 लाख रूपए के चेक, मेडल व उपहार देकर पुरस्कृत किया गया। इसके अलावा टॉप 20 में शामिल विद्यार्थियों को 3-3 लाख, टॉप 50 में शामिल होने वाले विद्यार्थियों को 2-2 लाख रूपए के चेक, मेडल एवं पुरस्कार प्रदान किए गए।

 इसी तरह नीट में टॉप-50 में शामिल विद्यार्थियों को 2-2 लाख तथा टॉप 100 में शामिल विद्यार्थियों को 1-1 लाख रूपए के चेक, मेडल एवं उपहार प्रदान किए गए। समारोह में नीट में श्रेष्ठ 500 में स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को समारोह में पुरस्कृत किया गया।