AIIMS रिजल्ट:टॉप 10 में से 9 एलन स्टूडेंट्स

0
127

कोटा। देश की सबसे प्रतिष्ठित मेडिकल प्रवेश परीक्षा एम्स के परिणामों में एक बार फिर एलन ने श्रेष्ठता सिद्ध की है। एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के विद्यार्थियों ने अखिल भारतीय स्तर पर टॉप 10 में से 9 स्थानों पर कब्जा किया है।

संस्था के निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि मेडिकल की पढ़ाई के लिए देश में सबसे प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान माने जाने वाले अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) एमबीबीएस प्रवेश परीक्षा का परिणाम खुशियां लेकर आया है। एलन स्टूडेंट्स ने एम्स की टॉप 10 सीटों में से 9 पर जगह बनाई है। इनमें छह विद्यार्थी क्लासरूम कोचिंग से तथा 3 विद्यार्थी डीएलपी से एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट से जुड़े हैं।

संस्था की रमनीक कौर महल ने अखिल भारतीय स्तर पर दूसरा, महक अरोड़ा ने तीसरा, मनराज सरा ने चौथा स्थान प्राप्त किया है। इसके साथ ही एआईआर 5 पर अमिताभ पंकज चौहान, एआईआर 6 पर अब्दुर रहमान असरार हक, एआईआर 7 पर संगीत राठी, एआईआर 8 पर अमूल्य गुप्ता, एआईआर 9 पर सोमल अग्रवाल तथा एआईआर 10 पर एश्वक अग्रवाल रहे हैं।

इनमें रमनीक कौर, मनराज सरा एवं एश्वक अग्रवाल डीएलपी से एलन से जुड़े हैं तथा शेष सभी 6 विद्यार्थी क्लासरूम कोचिंग से एलन से जुड़े हैं। एआईआर 5 पर रहने वाले अमिताभ पंकज चौहान ने एससी वर्ग में प्रथम स्थान प्राप्त किया है, वहीं संस्था के ही क्लासरूम कोचिंग छात्र प्रिंस चौधरी ने अखिल भारतीय स्तर पर 18वां तथा ओबीसी श्रेणी में प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

माहेश्वरी ने बताया कि अब तक देखे गए परिणामों में टॉप 50 में 34 स्थानों पर एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के स्टूडेंट्स हैं। एलन से 24 स्टूडेंट्स क्लासरूम प्रोग्राम से तथा 10 स्टूडेंट्स डीएलपी से जुड़े हैं। एम्स की परीक्षा 26 व 27 मई को ऑनलाइन आयोजित की गई।

सीटों के चार गुना 2649 विद्यार्थियों को काउंसलिंग के लिए योग्य घोषित किया गया है। सामान्य श्रेणी की कटऑफ पर्सेन्टाइल 98.8334496, ओबीसी के लिए 97.0117712 तथा एसटी-एसटी के लिए 93.6505421 रही।

माहेश्वरी ने बताया कि 9 एम्स की 807 सीटों के लिए यह परीक्षा आयोजित की गई है। इसमें 7 सीटें एनआरआई कोटे से हैं। इस परीक्षा के जरिये एम्स के न्यू दिल्ली, भोपाल, जोधपुर, ऋषिकेश, भुवनेश्वर, पटना, गुंटूर, नागपुर एवं रायपुर में एमबीबीएस में प्रवेश दिया जाता है। इस वर्ष नागपुर तथा गुंटुर में दो एम्स खुलने से 100 सीटें बढ़ी हैं। परीक्षा में करीब तीन लाख विद्यार्थी शामिल हुए।