अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कोटा में बनेगा वर्ल्ड रिकॉर्ड

0
83

कोटा।  अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर 21 जून को सीएम वसुंधरा राजे और योग गुरू स्वामी रामदेव की मौजूदगी में वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने के लिए कोटा के आरएसी मैदान में तमाम हाईटेक इंतजाम होंगे। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के लिए 5 स्तर पर लोगों की काउंटिंग की व्यवस्था होगी और यह भी देखा जाएगा कि आए हुए लोग योग कर भी रहे हैं या नहीं? इसके लिए गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड के दो जज लंदन से आएंगे।

इस दिन मैदान में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति को एक बार कोड दिया जाएगा, जिसके आधार पर उसकी एंट्री होगी। एंट्री के लिए बनाए जाने वाले 10 गेट पर करीब 100 बार कोड रीडर लगेंगे। कोचिंग स्टूडेंट्स को बार कोड कोचिंग के स्तर पर पहले ही दे दिए जाएंगे, जबकि अन्य लोगों को मौके पर बार कोड दिया जाएगा।

इसमें रजिस्ट्रेशन होने के बाद जब योग शुरू होगा तो प्रत्येक 50 लोगों पर मूल्यांकन करने के लिए एक वॉलेंटियर होगा, जो यह देखेगा कि उन 50 लोगों में से कितने लोग योग कर रहे हैं। यदि कुछ लोग योग नहीं कर रहे होंगे तो विश्व रिकॉर्ड में से उनकी संख्या घट जाएगी। इनके अलावा स्वतंत्र ऑडिटर भी बुलाए गए हैं, जो पूरे परिसर का मूल्यांकन करेंगे। ड्रोन से वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी भी होगी।

इन तमाम तथ्यों को देखने के बाद गिनीज बुक की टीम यह तय करेगी कि कोटा में विश्व रिकॉर्ड बना है या नहीं? एक स्थान पर योगा सीखने का सबसे ज्यादा लोगों का रिकॉर्ड अब तक मैसूर के नाम है, जहां पिछले साल योग दिवस पर एक साथ 55506 लोगों ने योग किया था।

वेब लिंक से मिलेगा सर्टिफिकेट
यदि कोटा की धरती पर यह विश्व रिकॉर्ड बनता है तो ऐसा नहीं है कि सिर्फ आयोजकों को ही इसका सर्टिफिकेट मिलेगा, बल्कि प्रत्येक उस शख्स को सर्टिफिकेट दिया जाएगा, जो इसमें प्रतिभागी होगा। रिकॉर्ड बनने के दो या तीन दिन बाद गिनीज बुक की ओर से एक वेब लिंक दिया जाएगा, जहां जाकर भाग लेने वाला व्यक्ति अपना बार कोड नंबर डालेगा और जरूरी एंट्री करने के बाद उसे अपने नाम का डिजिटल सर्टिफिकेट मिल जाएगा।

सिर्फ 30 मिनट का होगा रिकॉर्ड सत्र
योग दिवस पर कार्यक्रम तो सुबह 5 से 8 बजे तक चलेगा, लेकिन इसमें विश्व रिकॉर्ड वाला सत्र 6:30 से 7 बजे तक सिर्फ 30 मिनट का रहेगा।  मूल्यांकन के लिए आने वाली टीम इसी अवधि में देखेगी कि एक साथ एक जगह पर कितने लोग योग कर रहे हैं। आयोजकों को पूरी उम्मीद है कि कोटा में मैसूर का रिकॉर्ड टूटेगा।