फ्रीडम 251 के फाउंडर मोहित गोयल गिरफ्तार

0
52

नई दिल्‍ली। महज 251 रुपए में दुनिया के सबसे सस्‍ते स्‍मार्टफोन का ऑफर देने वाली कंपनी रिगिंग बेल के फाउंडर मोहित गोयल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। रेप के एक मामले को रफादफा करने के लिए उन पर 5 करोड़ की जबरन वसूली के आरोप हैं। गोयल को रविवार को पुलिस ने गिरफ्तार किया।

पुलिस का कहना है कि मोहित समेत तीन लोगों की गिरफ्तारी गैंगरेप के एक मामले को रफादफा करने की आड़ में जबरन वसूली करने के आरोप में हुई है। मोहित इससे पहले ठगी के आरोप में तीन महीने तक जेल में रह चुके हैं। उन्हें 31 मई को ही जमानत मिली थी।

अलवर जिले में दर्ज था केस
एक महिला की शिकायत पर इस मामले में 6 मार्च को राजस्‍थान के अलवर जिले में केस दर्ज किया था। महिला को आरोपा था कि उसके साथ कथित पर पर 5 कारोबारियों ने मिलकर रेप किया। महिला का आरोप है कि उसे एक होटल में एक इवेंट को अटेंड करने के लिए बुलाया गया था। जहां इन 5 लोगों के उनके साथ रेप किया। इसके बाद पुलिस ने 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया।

मांग रहे थे 5 करोड़ रुपए
डिप्‍टी कमीश्‍नर असलम खान ने बताया कि उन्‍होंने एक गैंग के 3 सदस्‍यों को हिरासत में लिया है। यह गैंग पूरे मामलों को रफा दफा करने के लिए जबरन वसूली करने की कोशिश कर रहा था। खान के मुताबिक, गोयल के अलावा गिरफ्तार अन्‍य 2 लोगों के नामों का खुलासा तब तक नहीं किया जाएगा तब तक कि पूरे मामले में हर व्‍यक्ति की भूमिका की तफ्तीस से जानकारी नहीं मिला जाती है।

फिरोती की शिकायत दिल्‍ली स्थि‍त नेताजी सुभाष प्‍लेस पुलिस स्‍टेशन में दर्ज कराई गई थी। पुलिस के मुताबिक, पूरा मामला रफा दफा करने के लिए यह गैंग 5 करोड़ रुपए की मांग कर रहा था। रविवार को रेप मामले की आरोपी अन्‍य लोगों के साथ बिजनेसमैन के ऑफिस में यह पैसा लेने के लिए गई थी। इसी के बाद उन्‍हें स्‍पॉट से गिरफ्तार कर लिया गया।

सस्ते फोन की आड़ में लाखों लोगों से की है ठगी
मोहित पर आरोप है कि उन्होंने दुनिया के सबसे सस्ते फोन की आड़ में लाखों लोगों से ठगी की है। पिछले साल उन्हें गाजियाबाद के इंदिरापुरम से गिरफ्तार किया था। पूछताछ में उन्होंने बताया था कि उन्हें सस्ता फोन बनाने की प्रेरणा मेड से मिली जिसने कॉल करने के लिए उधार में फोन मांगा था। इसके बाद मोहित ने इंटरनेट पर सर्च किया तो पता चला कि देश में सिर्फ 30 करोड़ लोगों के पास ही स्मार्टफोन हैं।

फिर वह सस्ते मोबाइल फोन बनाने और एक कंपनी खोलने की योजना बनाने लगे। मोहित ने फोन बनाने के लिए समाचार पत्र से आइडिया लिया। उन्होंने सस्ते मोबाइल का ब्लू प्रिंट तैयार किया जिसमें उनकी मदद अमेरिका से टेक्नौक्रेट फिजिक्स की पढ़ाई कर चुके अशोक चड्ढा ने की। फोन बनाने के बाद उन्होंने 200 से ज्यादा डिस्ट्रिब्यूटर बनाए और उनसे करीब 60 करोड़ रुपये लिए और उनपर आरोप हैं कि उन्होंने इन डिस्ट्रिब्यूटरों को पैसा नहीं लौटाया।