गेहूं का इस बार रिकॉर्ड उत्पादन, 9.74 करोड़ टन रहने का अनुमान

0
67

नई दिल्ली। देश में मॉनसून की वर्षा अच्छी रहने से जून में समाप्त होने जा रहे इस फसल वर्ष में गेहूं, चावल और दलहन सहित खाद्यान्न का रिकॉर्ड 27 करोड़ 33 लाख 80 हजार टन उत्पादन होने का अनुमान है।

कृषि मंत्रालय ने अपने तीसरे अग्रिम अनुमान में खाद्यान्न उत्पादन अनुमान को संशोधित करते हुए कहा कि फसल वर्ष 2016-17 (जुलाई से जून) में चावल उत्पादन 10 करोड़ 91 लाख टन होने का अनुमान है जबकि गेहूं की पैदावार 9 करोड़ 74 लाख टन और दलहन 2 करोड़ 24 लाख टन होने का अनुमान है।

मॉनसून अच्छा रहने से फसल वर्ष 2016-17 में गेहूं उपज का यह नया रिकॉर्ड बनने जा रहा है।  कृषि मंत्रालय खाद्यान्न पैदावार के अंतिम आंकड़े पेश करने से पहले फसल के विभिन्न चरणों में चार बार उपज के अनुमान जारी करता है। इस समय रबी मौसम की फसलों की कटाई जोरों पर चल रही है।

तीसरे अग्रिम अनुमान में खाद्यान्न उत्पादन इस वर्ष 27 करोड़ 33 लाख टन के सर्वकालिक उच्च स्तर पर होने का अनुमान है जो उत्पादन पिछले वर्ष 25 करोड़ 15 लाख टन का हुआ था। अधिक उत्पादन का पिछला रिकॉर्ड 2013-14 में 26 करोड़ 50 लाख टन का है। खाद्यान्नों में चावल, गेहूं, मोटे अनाज और दलहनें शामिल हैं।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘वर्ष 2016 के मॉनसून के दौरान अच्छी बरसात और सरकार द्वारा की गई विभिन्न नीतिगत पहल के परिणामस्वरूप देश में चालू फसल वर्ष में रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन हासिल हुआ है।’
 
गेहूं उत्पादन पिछले साल के नौ करोड़ 22 लाख टन के मुकाबले बढ़कर इस वर्ष 2016-17 में नौ करोड़ 74 लाख टन हो गया क्योंकि मौसम में गड़बड़ी नहीं होने से ऊपज बेहतर हुई है। गेहूं उत्पादन के मामले में पिछला रिकॉर्ड नौ करोड़ 58 लाख टन का था जिसे वर्ष 2013-14 में हासिल किया गया।