डॉ. गरिमा दायमा के शास्त्रीय संगीत ने श्रोताओं का मन मोह लिया

0
205

कोटा । बूंदी की बेटी और पुणे की बहू डॉ गरिमा दायमा का शास्त्रीय संगीत के स्वर बुधवार को कोटा वासियों को सुनने को मिले। रमैया मैं तो तेरे रंग म…..भजन पर जमकर दाद पाई। इसी प्रकार गरिमा के साथ पुणे के कलाकारों ने राग मारू बिहाग से बड़ा ख्याल गा कर कार्यक्रम की शुरूआत की और श्रोताओं का मन मोह लिया।

इसी में छोटा ख्याल गाया कुछ गाने तराने सुनाएं। श्रोताओं की फरमाईश पर ही भजन थाट बिलावल,तराना रंग भैरवी की प्रस्तुति दी गई।डॉ. गरिमा दायमा का कार्यक्रम परम्परा ग्रुप ऑफ एेंटरटेनमेंट के तहत बुधवार सायं लाल बहादुर सीनियर सैकण्डरी स्कूल के महावीर नगर विस्तार के सभागार में किया गया।। गु्रप के डायरेक्टर निषेध सोनी ने बताया कि डॉ गरिमा राजस्थान के वनस्थली विद्यापीठ से गोल्डमेडलिस्ट है और संगीत में पीएचडी है।

किराना घराने से संगीत विधा में प्रभात्रे की शिष्या है।पद्मश्री मोईनुद्दीन खां तथा पुणे की आरती ठाकुर कुंडलकर उनके गुरू है। कार्यक्रम में वरिष्ठ संगीत गुरू महेश शर्मा का सम्मान किया गया। एसबीएस ग्रुप आफ एजुकेशन के निर्देशक कुलदीप माथुर,ओम माथुर नक अध्यक्षता की। प्रारम्भ में गायिका चि़त्रा सोनी ने राग मालकौंस में सरस्वती वंदना गाई। गरिमा का तबले परअनुराग और हारमोनियम पर लखन माखन ने साथ दिया।