NEET-2018: 20 कोड में आया पेपर, बॉयोलॉजी तय करेगी रैंक

0
33

कोटा। नेशनल इलेजिब्लिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (नीट-2018) रविवार को संपन्न हो गई। ओवर आल स्तरीय पेपर कहा जा सकता है। नीट के स्तर को ध्यान रखते हुए पेपर तैयार किया गया।

एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट के निदेशक बृजेश माहेश्वरी ने बताया कि गत वर्ष से तुलना करें तो ओवरआल पेपर आसान रहा। इस बार 20 कोड में पेपर आया, गत वर्ष 12 कोड में ही आया था। इसके अलावा बॉयोलॉजी ही रैंक तय करेगी, क्योंकि बॉटनी के पेपर में कुछ प्रश्न ऐसे रहे जो कि श्रेष्ठता को तय करेंगे।

बॉयोलॉजी व कैमेस्ट्री का पेपर आसान रहा। फिजिक्स का पेपर भी ओवरऑल ईजी रहा लेकिन न्यूमेरिकल्स में कैलकुलेशन ज्यादा होने से लेंदी रहा। पेपर एनसीईआरटी बेस्ड रहा। फिजिक्स में 45 में से 7 प्रश्न कठिन कहे जा सकते हैं। यही केमेस्ट्री में भी डिफिकल्टी लेवल यही रहा। माहेश्वरी ने बताया कि बॉयलोजी में प्रश्न संख्या 102 ‘पी‘ कोड में प्रश्न की शुरूआत गलत हो रही है।

यह अधूरी लग रही है। इसी कोड में प्रश्न 113 में एनसीईआरटी के अनुसार प्रश्न में अप्रेजल शब्द आना चाहिए था जो कि अप्रुव्ड लिखा हुआ था। केमेस्ट्री में पी कोड में प्रश्न संख्या 62 में सभी चारों विकल्प सही हैं। ऐसे में बोनस अंक मिलने की संभावना है। इसी प्रकार इसी कोड में प्रश्न संख्या 88 में दो विकल्प सही हैं।

फिजिक्स के पेपर में कोई बाहर से प्रश्न नहीं था, न्यूमेरिकल्स अधिक होने के कारण ज्यादा समय लेने वाला पेपर था। इस बार नीट के लिए देशभर में कुल 13 लाख 26 हजार 725 विद्यार्थी रजिस्टर्ड थे और 136 शहरों में 2 हजार 225 परीक्षा केन्द्र बनाए गए थे।

कोटा में नीट एग्जाम के लिए 20 परीक्षा केन्द्रों पर कुल 11 हजार 100 विद्यार्थी रजिस्टर्ड थे। जिनमें से 126 विद्यार्थी अनुपस्थित व 10 हजार 974 उपस्थित रहे।

बॉयोलॉजी -एक्सपर्ट्स के अनुसार नीट 2018 में बॉयोलॉजी पेपर के स्तर को सामान्य कहा जा सकता है। सबसे ज्यादा बॉटनी से 59 प्रश्न पूछे गए। जबकि जूलॉजी के 31 प्रश्न आए। एनसीईआरटी के सिलेबस से 57 प्रश्न और बाहर के 33 प्रश्न पूछे गए।

पेपर में 45 प्रश्नों का स्तर काफी आसान रहा, जबकि 39 प्रश्नों का स्तर सामान्य व 6 प्रश्नों का स्तर काफी कठिन रहा। 11वीं कक्षा के सिलेबस से 47 व 12वीं कक्षा से 43 प्रश्न पूछे गए थे। सबसे ज्यादा प्रश्न जेनेटिक्स प्लस बॉयोटेक्नोलॉजी से 16 प्रश्न थे।

कैमेस्ट्री – एक्सपर्ट्स के अनुसार कैमेस्ट्री में कुल 45 प्रश्न पूछे गए थे। जिसमें तीन प्रमुख भागों ऑर्गेनिक, इनऑर्गेनिक व फिजिकल के 15-15 प्रश्न थे। कक्षा 11वीं के सिलेबस से 24 व 12वीं के सिलेबस से 21 प्रश्न आए। कुल 16 प्रश्न काफी आसान थे। 22 प्रश्नों का स्तर मध्यम व 7 प्रश्नों का स्तर काफी कठिन था। सबसे ज्यादा 22 फीसदी प्रश्न 12वीं के सिलेबस से फिजिकल टॉपिक से पूछे गए। पेपर एनसीईआरटी बेस्ड था। बाहर से एक भी प्रश्न इस बार पेपर में देखने को नहीं मिला।

फिजिक्स- फिजिक्स का पेपर आसान रहा लेकिन न्यूमेरिकल्स में कैलकुलेशन ज्यादा होने से पेपर लेंदी रहा। इस वजह से विद्यार्थियों को समय काफी लगा। कुल 45 प्रश्न पूछे गए थे। कक्षा 11वीं के सिलेबस से 22 व 12वीं के सिलेबस से 23 प्रश्न पूछे गए थे।

आसान व मध्यम स्तर के 19-19 प्रश्न व 7 प्रश्नों का स्तर काफी कठिन था। इस पेपर में मैकेनिक्स, थर्मल फिजिक्स, एसएचएम एंड वेव्स, इलेक्ट्रो डाइनेमिक्स, ऑप्टिक्स, मॉडर्न एंड इलेक्ट्रोनिक्स टॉपिक को मुख्यतया कवर किया गया है। सबसे ज्यादा 31 फीसदी प्रश्न मैकेनिक्स टॉपिक से पूछे गए थे।