सेंसेक्स 289 अंक मजबूत, निफ्टी 10700 के पार

0
17

नई दिल्ली। मई सीरीज की अच्छी शुरूआत हुई है। मजबूत ग्लोबल संकेतों और आरआईएल के बेहतर नतीजों की उम्मीद में मार्केट में शानदार तेजी है। कारोबार के दौरान सेंसेक्स 289 अंक मजबूत होकर 35003 के स्तर पर पहुंच गया।

2 फरवरी के बार सेंसेक्स वापस इस स्तर को छू पाया है। वहींं, इंट्राडे मेंं निफ्टी 10700 के पार पहुंच गया। 5 फरवरी के बाद निफ्टी पहली बार यह स्तर छूने में कामयाब हो पाया है।

कारोबार के दौरान रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर अपने नई ऊंचाई पर पहुंच गया। शेयर 3 फीसदी से ज्यादा चढ़कर 1005 के स्तर पर पहुंचा। ऑटो, फार्मा, एफएमसीजी और मेटल शेयरों में अच्छी खरीददारी दिख रही है। वहीं, आज आईटी शेयरों में गिरावट है। गुरूवार को भी बेहतर ग्लोबल संकेतों से बाजार बढ़त के साथ बंद हुआ था।

एक्सिस बैंक और RIL में अच्छी तेजी
कारोबार के दौरान एक्सिस बैंक में 4.57 फीसदी, आरआईएल में 3.04 फीसदी, यस बैंक में 3.01 फीसदी, आईसीआईसीआई बैंक में 1.99 फीसदी और आयशर मोटर के शेयरों में 1.49 फीसदी की तेजी है।

वहीं, नतीजों के पहले मारूति सुजुकी के शेयरों में भी बढ़त दिख रही है। शेयर 1.64 फीसदी की तेजी के साथ 9094 रुपए के भाव पर पहुंच गया।

एयरटेल, विप्रो में गिरावट
वहीं, कारोबार के दौरान एयरटेल, विप्रो, टीसीएस, टेक महिंद्रा और एचडीएफसी बैंक के शेयरों में 0.38 फीसदी से 1.66 फीसदी की गिरावट है।

मिडकैप में खरीदारी
मिडकैप और स्मॉलकैप शेयरों में भी खरीदारी देखने को मिल रही है। बीएसई का मिडकैप इंडेक्स 0.5 फीसदी चढ़ा है, जबकि निफ्टी के मिडकैप 100 इंडेक्स में 0.5 फीसदी की बढ़त दर्ज की गई है। बीएसई का स्मॉलकैप इंडेक्स 0.5 फीसदी से ज्यादा मजबूत हुआ है।

मिडकैप शेयरों में आरबीएल बैंक, नाल्को, अदानी एंटरप्राइजेज, आदित्य बिड़ला फैशन और बैंक ऑफ इंडिया में 2.1 से 3.75 फीसदी की तेेेेजी है। हालांकि अपोलो हॉस्पिटल, इंडियन बैंक, एम्फैसिस और बर्जर पेंट्स में कमजोरी है।

रुपए में गिरावट, 66.83 के भाव पर खुला
रुपए में गिरावट का सिलसिला थम नहीं रहा है। शुक्रवार को रुपया डॉलर के मुकाबले 8 पैसे कमजोर होकर 66.83 के भाव पर खुला। गुरूवार को बैंकों द्वारा डॉलर की सेलिंग से रुपया गुरुवार को 13 पैसे मजबूत हुआ था और प्रति डॉलर डॉलर 66.75 के स्तर पर बंद हुआ था।

2 दिन पहले बुधवार को रुपया 52 पैसे की कमजोरी के साथ 66.90 रुपए के स्तर पर आ गया था, जो इस साल एक दिन में यह रुपए की सबसे बड़ी कमजोरी है।