मुनाफावसूली से सेंसेक्स 115 अंक लुढ़का, निफ्टी भी 10,571 अंक पर बंद

0
19

मुंबई। कमजोर वैश्विक रुख, विदेशी कोषों की निकासी और धातु,तेल और गैस शेयरों में मुनाफावसूली से बुधवार को शेयर बाजार में गिरावट दर्ज की गई। बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स 115 अंक टूटकर 34,501 अंक पर बंद बंद हुआ। वहीं निफ्टी भी अंक 44 अंक के नुकसान से 10,571 अंक पर बंद हुआ।

बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप सूचकांकों में भी गिरावट रही। मिडकैप सूचकांक 88 अंकों की गिरावट के साथ 16,788 पर बंद हुआ। छोटे शेयरों वाला स्मॉलकैप सूचकांक 131 अंकों की गिरावट के साथ 18,119 पर बंद हुए।

इन शेयरों में ज्यादा नुकसान
बीएसई के 20 में से 16 सेक्टरों में गिरावट दर्ज की गई। इसमें सबसे अधिक धातु शेयरों में 1.43 फीसदी का नुकसान हुआ। तेल और गैस 1.33 फीसदी, उपभोक्ता वस्तुएं 1.20 फीसदी, पूंजीगत वस्तुएं 1.20 फीसदी और आधारभूत सामाग्री क्षेत्र के शेयर 1.15 फीसदी गिरावट के साथ सबसे अधिक नुकसान वाले शेयरों में शामिल रहे।

हालांकि, बाजार में गिरावट के बावजूद कुछ क्षेत्र के शेयरों में फायदा हुआ। इनमें दूरसंचार प्रौद्योगिकी में सबसे अधिक 1.24 फीसदी का लाभ हुआ। दूरसंचार 1.03 फीसदी, टेलीकॉम 0.70 फीसदी और रीयल्टी 0.30 फीसदी तेजी के साथ मुनाफा देने वाले शेयरों में शामिल रहे।

शुरुआती गिरावट से नहीं उबरा बाजार
30 शेयरों वाला सेंसेक्स कमजोर रुख के साथ खुलने के बाद ज्यादातर समय नकारात्मक दायरे में रहा। एक समय यह 34,400 अंक के निचले स्तर तक भी आया। अंत में सेंसेक्स 0.33 प्रतिशत के नुकसान के साथ बंद हुआ। कारोबार के दौरान एक समय यह 34,631 अंक के उच्चस्तर तक भी गया। पिछले दो सत्रों में सेंसेक्स 201 अंक चढ़ा था।

इसी तरह निफ्टी भी 0.41 प्रतिशत के नुकसान के साथ बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 10,536 से 10,613 अंक के दायरे में रहा। बाजार विशेषज्ञों ने कहा कि गुरुवार को अप्रैल महीने के डेरिवेटिव अनुबंधों का निपटान होना है। इससे घरेलू बाजार में उतार-चढ़ाव रहा। एशियाई बाजारों में भी गिरावट रही।