सांसद ने वाहवाही लूटने के लिए हवाई सेवा शुरू करने में जल्दबाजी की

0
35

कोटा।  कोटा में हवाई सेवा बंद होने पर यूआईटी के पूर्व अध्यक्ष रविंद्र त्यागी ने कहा कि चुनाव नजदीक आते देख भाजपा सरकार ने जल्दबाजी में हवाई सेवा चालू कर दी, जिसमें नियमों का भी ध्यान नहीं रखा गया। सांसद ने वाहवाही लूटने के लिए आमजन की सुरक्षा से समझौता कर लिया और दो दिन में ही यह सेवा बंद हो गई। नेताओं के इस कृत्य की निंदा करनी चाहिए।

कार्यकर्ताओं ने बताया कि एयरपोर्ट प्रभारी से बातचीत में कई चौंकाने वाली बातें सामने आईं। उन्होंने हमें बताया कि विमान सेवा संचालित कर रही कंपनी के पास डीजीसीए की क्लीयरेंस ही नहीं थी, सुरक्षा नियमों का भी कंपनी पालन नहीं कर रही, इसके बावजूद उसे उड़ान की अनुमति कैसे दे दी गई? 

उधर,  कोटा से हवाई सेवा बंद होने के मुद्दे को लेकर सांसद ओम बिरला सोमवार दिल्ली में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री व मंत्रालय के सचिव से मुलाकात करेंगे। सांसद ने कहा कि कोटा की जनता से यह मेरा कमिटमेंट है और इस सेवा को किसी भी सूरत में बंद नहीं होने दूंगा। कुछ तकनीकी कारण आड़े आ रहे हैं, जिन्हें दूर कराया जाएगा।

बिरला ने कहा  एक-दो दिन में मामला सॉर्ट आउट कराकर फिर से विमान सेवा शुरू करा दी जाएगी। इतना ही नहीं आने वाले दिनों में कोटा से मुंबई, अहमदाबाद जैसे शहरों के लिए भी हवाई सेवा शुरू कराने के प्रयास किए जा रहे हैं। उधर, राजस्थान के सिविल एविएशन विभाग के निदेशक कैप्टन केसरी सिंह ने कहा कि मैं इस मामले से जुड़े सभी पक्षों के संपर्क में हूं।

यह महज कंफ्यूजन की वजह से हुआ है। सभी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद कंपनी को अनुमति दी गई है। यदि नहीं होती तो फिर दूसरे एयरपोर्ट पर कैसे ऑपरेशन हो रहा है। कोटा में पैदा हुए कंफ्यूजन को जल्द दूर कर दिया जाएगा। गौरतलब है कि इंट्रा स्टेट एयर सर्विस के तहत राज्य में उड़ान संचालित कर रही कंपनी सुप्रीम एयरलाइंस के पास डीजीसीए क्लीयरेंस नहीं होने की बात कहते हुए कोटा एयरपोर्ट प्रबंधन ने शुक्रवार से उड़ान रोक दी है।

क्या कोटा के नियम अलग हैं : कंपनी
पूरे राजस्थान में हमारा ऑपरेशन चल रहा है, कोटा में भी 9 माह से हमारी उड़ान संचालित है, अब क्या अचानक नियम बदल गए? शनिवार को भी सिर्फ कोटा में ही सेवा बंद रही है, शेष सभी जगहों से फ्लाइट संचालित हुई है। बगैर परमिशन के एयरपोर्ट पर विमान उड़ाना तो दूर काउंटर भी नहीं मिलता। यदि ऐसा ही है तो एयरपोर्ट प्रभारी हमारा काउंटर हटा दें। हमने पूरे मामले से मिनिस्ट्री को अवगत करा दिया है। – आकाश अग्रवाल, वाइस प्रेसीडेंट, सुप्रीम एयरलाइंस

डॉक्यूमेंट्स हैं तो हमें देने में दिक्कत क्या : एयरपोर्ट प्रभारी
मुझे अन्य एयरपोर्ट का नहीं पता कि वहां क्या सिचुएशन है। मैं सिर्फ अपने एयरपोर्ट के बारे में बता सकता हूं। मुख्यालय ने मुझे आदेश दिए, उसी के तहत ऑपरेशन बंद किया गया है। मेरे एक बात समझ नहीं आ रही कि कंपनी पास ये सारे डॉक्यूमेंट्स हैं तो हमें देने में दिक्कत क्या आ रही है? मैं तो खुद चाहता हूं कि कोटा से विमान सेवा संचालित हो। –लोकेश निर्वाण, प्रभारी, कोटा एयरपोर्ट

750 कर्मचारियों को हवाई यात्रा कराएगा एलन
एलन कॅरियर इंस्टीट्यूट अपनी स्थापना के 30 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में कोटा में हवाई सेवा को प्रमोट करने के लिए अपने 750 से ज्यादा नॉन एकेडमिक कर्मचारियों को हवाई सफर कराएगा। यह पहल 18 अप्रैल से शुरू होगी, इसके तहत कर्मचारी कोटा से जयपुर तक की हवाई यात्रा कर सकेंगे।

निदेशक राजेश माहेश्वरी ने बताया कि शहर में हवाई सेवा शुरू करने के लिए कई सालों से मांग चल रही थी। कंपनी द्वारा रोजाना एलन को रिक्त सीटों की जानकारी दी जाएगी, जिन पर 2 कर्मचारियों को यात्रा करवाई जाएगी। कर्मचारियों को जयपुर से कोटा आने के लिए भत्ता  दिया जाएगा।