सलमान की बेल पर सुनवाई करने वाले जज का तबादला, टल सकता है फैसला

0
20

जोधपुर। कांकाणी हिरण शिकार मामले में सलमान खान की 5 साल की सजा सस्पेंड किए जाने पर आज शनिवार को सुनवाई होनी है। इस बीच सुनवाई करने वाले जिला और सेशन जज (रूरल) रविंद्र कुमार जोशी सहित कई ज्यूडिशियल जज का शुक्रवार देर रात तबादला हो गया है।

जोशी का तबादला होने पर सलमान की जमानत पर सुनवाई टलने की पूरी संभावना है, क्योंकि सामान्यतया जज का तबादला होने पर वे ऐसे मामलों की सुनवाई नहीं करते हैं। अगले दिन रविवार की छुट्टी होने की वजह से अब इस मामले में सोमवार को ही सुनवाई हो पाएगी।

बता दें कि इससे पहले शुक्रवार को सेशन कोर्ट में सलमान की जमानत पर सुनवाई पूरी नहीं हो सकी। जिला और सेशन जज ग्रामीण रवींद्र कुमार जोशी ने ट्रायल कोर्ट का रिकॉर्ड मंगवाया था।

अब क्या रास्ता बचता है सलमान के पास?
जज (रूरल) रविंद्र कुमार जोशी को तबादले के बाद जिला और सेशन जज सिरोही के पद पर लगाया है। जोशी की जगह जिला और सेशन जज जोधपुर ग्रामीण के पद पर चंद्रकुमार सोनगरा को भीलवाड़ा से लगाया है। अगर जोशी सुनवाई से इंकार करते हैं तो सलमान के वकील डिस्ट्रिक्ट जज कोर्ट ग्रामीण की लिंक कोर्ट एडीजे जोधपुर ग्रामीण में सुनवाई रेफर करने का आग्रह कर सकते हैं।

सलमान के वकील को अंडरवर्ल्ड से मिल रही धमकी
– सलमान के वकील महेश बोड़ा को अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी से धमकी मिलने का दावा किया है। बोड़ा ने बताया कि गुरुवार शाम को इंटरनेट कॉलिंग शुरू हुई। उन्होंने कॉल अटेंड नहीं किया तो शुक्रवार सुबह तक 8 से 10 मैसेज मिल गए। रवि पुजारी के नाम से आए मैसेज में लिखा था ‘सलमान का केस छोड़ दो वरना मार देंगे’। उन्होंने पुलिस को इसकी शिकायत कर दी और मैसेज का ब्यौरा सौंप दिया।
– एडवोकेट हस्तीमल सारस्वत को भी 3 इंटरनेशनल कॉल आई। जिन्हें उन्होंने कॉल अटेंड नहीं किया। उनके मुताबिक, शुक्रवार को आई कॉल के नंबर उन्होंने जांचे तो वे पाकिस्तान के नंबर थे। सारस्वत ने बताया कि पिछले साल भी रवि पुजारी ने उन्हें धमकी दी थी।

जेल में सलमान का मिल रहा वीआईपी ट्रीटमेंट
– सलमान खान जेल में भी वीआईपी की तरह ही रह रहे हैं। उनको जेल प्रशासन ने दूसरे दिन भी न तो कैदियों की ड्रेस पहनाई न ही जेल का कैदियों वाला खाना ही खिलाया। होटल से मंगवाया खाना खिलाया और पीने को ब्लैक कॉफी दी।
– इससे पहले गुरुवार की रात सलमान के लिए मुश्किलों भरी रही। तनाव में सलमान बार-बार सिगरेट फूंकते रहे। रात में जेल बैरक के बाहर पंखे लगे हुए थे, लेकिन मच्छर काटने से नींद नहीं आ रही थी। देर रात बाद मच्छरों से बचने वाली ट्यूब लगाने के बाद सलमान को नींद आई, तो वे 10 बजे तक सोए रहे।

15 दिन में 3 लोगों से मुलाकात का नियम, सलमान को कई लोगों से मिलाया
जेल नियमाें के मुताबिक किसी भी सजायाफ्ता कैदी से 15 दिन में एक बार ही कोई भी 3 लोग ही मुलाकात कर सकते हैं। हालांकि, इसमें कमी या बढ़ोतरी करने का पावर जेल सुपरिटेंडेट को होता है। जेल प्रशासन ने पहले ही दिन अपने अधिकारों का इस्तेमाल कर अधिकारिक रूप से सलमान की 4 लोगों से मुलाकात कराई। जिनमें एक्ट्रेस प्रीति जिंटा, सलमान की बहनें अलवीरा और अर्पिता समेत बॉडीगार्ड शेरा शामिल है।

हिरण के शिकार से जुड़े मामले को ऐसे समझें
– यह केस सबसे पुख्ता था, क्योंकि 1 अक्टूबर 1998 की रात जब सलमान और उनके साथियों ने जोधपुर के पास कांकाणी गांव में संरक्षित वन्य प्राणी दो काले हिरणों का शिकार किया था। गांव वालों ने गोली की आवाज सुनकर उनका पीछा भी किया था। इनमें से कई लोगों ने उन्हें मौके पर देखा था और हिरणों के शव भी फॉरेस्ट डिपार्टमेंट को सौंप दिए थे। इस मामले में सलमान गोली चलाने के आरोपी बनाए गए।
– शिकार से जुड़े बाकी के दोनों केस में इकलौता चश्मदीद हरीश दुलानी था, उसने भी बयान बदल लिए थे। उसने सलमान के अलावा दूसरे कलाकारों को पहचानने से इनकार कर दिया था। दूसरा कमजोर पक्ष यह भी था कि उसमें हिरणों के शव नहीं मिले थे।
दूसरी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पुष्टि हुई
– कांकाणी केस में पहली रिपोर्ट डॉ. नेपालिया की थी। उनकी रिपोर्ट के मुताबिक, एक हिरण की मौत दम घुटने से और दूसरे हिरण की मौत गड‌्ढे में गिर जाने और श्वानों के खाने से हुई थी। अभियोजन पक्ष का कहना था कि यह रिपोर्ट सही नहीं थी, क्योंकि इसमें गन इंजरी की बात नहीं थी।
– इसके बाद मेडिकल बोर्ड बैठाया गया। बोर्ड ने दूसरी पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में दोनों काले हिरणों की मौत की वजह गन शॉट इंजरी ही बताई।
इस मामले में सलमान पर कितने केस, उनमें क्या हुआ?
– कुल चार केस थे। तीन हिरणों के शिकार के और चौथा आर्म्स एक्ट का। दरअसल, तब सलमान के कमरे से उनकी निजी पिस्टल और राइफल बरामद की गई थीं, जिनके लाइसेंस की मियाद खत्म हो चुकी थी।
कहां और कब किए गए शिकार?
– सलमान पर जोधपुर के घोड़ा फार्म हाउस और भवाद गांव में 27-28 सितंबर 1998 की रात हिरणों का शिकार करने का आरोप लगा।
– फिल्म ‘हम साथ-साथ हैं’ की शूटिंग के दौरान सलमान और उनके साथियों ने 1 और 2 अक्टूबर, 1998 की रात जोधपुर के पास कांकाणी गांव में दो काले हिरणों के शिकार का आरोप था। आर्म्स एक्ट में
एडिशनल केस लगने की वजह से यह मामला जुलाई 2012 तक पेंडिंग रहा।