NCDEX ने ग्वार सीड ऑप्शंस में पहला सेटलमेंट पूरा किया

0
51

मुंबई। ग्वार सीड में भारत के पहले एग्री कमोडिटी ऑप्शंस को लांच करने के बाद नेशनल कमोडिटी एंड डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (NCDEX) , कमोडिटी के कारोबारों की सक्रिय भागीदारी का गवाह बना है।

एक्सचेंज ने ग्वार सीड में अपना पहला ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट 52000 मीट्रिक टन की ट्रेडिंग के बाद सफलतापूर्वक सेटल कर लिया है। लांच के दिन 8010 मीट्रिक टन की ट्रेडिंग हुई थी।  केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मकर संक्रांति के पावन पर्व पर ग्वार सीड में एग्री ऑप्शंस कॉन्ट्रेक्ट के आरंभ की घोषणा की थी।

कॉल एंड पुट ऑप्शंस का पहला सैट 28 फरवरी 2018 को 1130 मीट्रिक टन के साथ समाप्त हो गया था। फरवरी महीने की ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट में ओपन इंटरेस्ट पहले दिन के 4290 मीट्रिक टन से बढ़कर 23 फरवरी 2018 को 8710 मीट्रिक टन के चरम बिंदु पर पहुंच गया था। हर दिन के अंत में औसत ओपन इंटरेस्ट 6610 मीट्रिक टन था।

एग्री कमोडिटी ऑप्शंस का पहला सेटलमेंट होने पर NCDEX के प्रवक्ता ने कहा, “यह बहुत खुशी की बात है कि इतनी बड़़ी तादाद में सदस्यों ने एग्री कमोडिटी के सर्वप्रथम ग्वार सीड ऑप्शंस में सक्रियता से भाग लिया। एक्सचेंज में बढ़ती सहभागिता के साथ हमें विश्वास है कि 28 मार्च 2018 और 25 अप्रैल 2018 को समाप्त होने वाले ऑप्शंस भी कामयाब रहेंगे।

एक जिम्मेदार प्लैटफॉर्म के तौर पर हम कृषक समुदाय को सशक्त करने के लिए हमेशा समर्पित व कृत संकल्प रहे हैं और ऑप्शंस पेश करने से बड़े पैमाने पर उन्हें कमोडिटी बाजारों की मूल्य वसूली में मदद मिलेगी।“ किसानों के हाथ में इस किस्म का पहला और विशिष्ट हेजिंग टूल आ जाने से वे और ज्यादा सशक्त होंगे और इससे कमोडिटी बाजारों में किसानों की भागीदारी में वृद्धि होगी।

यह नया टूल सरल है जिससे कि कमॉडिटी बाजारों में किसानों की हेजिंग गतिविधियों में बढ़ोतरी होगी और यह टूल किसानों के अनुकूल साबित होगा जिससे कमोडिटी ट्रेड में गहराई आएगी तथा उपज की बेहतर कीमतों के रूप में किसानों को फायदा होगा व साथ ही गिरावट का जोखिम भी सीमित हो जाएगा।